सोनीनगर में पंचकल्याणक प्रतिष्ठा में भगवान का राज्याभिषेक

0
9

सोनीनगर में पंचकल्याणक प्रतिष्ठा में भगवान का राज्याभिषेक हुआ तत्पष्चात वैराग्य होकर तप कल्याणक पर्व मनाया ।
अजमेर 31 जनवरी, 2024 श्री आदिनाथ दिगम्बर जैन मन्दिर समिति, सोनीनगर अजमेर  के नवनिर्मित प्रथम तल पर जिनालय का भव्य पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महामहोत्सव में आज पंचकल्याणक पांडाल में सप्तम पटृाधीष आचार्य श्री विवेकसागरजी महाराज ने तीसरे दिन जन्म कल्याणक के अवसर पर विषाल धर्म सभा को संबोधित करते हुये कहा कि पंचकल्याणक का विषेष उत्सव चल रहा है जब घर में उत्सव होता है आप जानते है तो उत्साह कितना होता है आप जानते है बहुत उत्साह होता है ये पंचकल्याणक है मंच के माध्यम से आप देख रहे है धर्म के अनुष्ठान को बहुत छोटा समझते है पुण्य की सामग्री जुटाने का साधन है एक सौधर्म इन्द्र कके काल में 40 नील इन्द्राणी तीर्थंकर के प्रथम दर्षन करती है एक भव अवतारी होता है तीर्थंकर के प्रथम दर्षन का इतना पुण्य प्राप्त होता है कि स्त्री पर्याय को छेदन करके मोक्ष प्राप्त कर लेती है जब साक्षात तीर्थंकर के दर्षन करने से परिणामों में निर्मलता होती है ।
आगे उन्होने कहा कि मनुष्य जीवन मिला तीर्थंकरों के दर्षन करने का सौभाग्य प्राप्त होता है आपके पास उच्च गोत्र है पूर्व में मुनियो को नमस्कार किया होगा उसके पुण्य से आपको उच्च कुल मिला । साधु प्रतिमा को सूर्य मंत्र देना आपने मकान किराये पर दिया उसमें हिंसा मांस आदि का प्रयोग होता है आपको पाप लगेगा साधना के स्थान देख लेना चाहिये कि दान करने से अगले जन्म का बीमा हो जाता है ऐसे ही पाप की संपति आपके पास आ गई तो उसका भी ब्याज बढेगा पुण्य का ब्याज बढता है ऐसे ही पाप का ब्याज बढता है मनुष्य जीवन को श्रेष्ठ बनाओ पारसनाथ भगवान के पंचकल्याणक चल रहा है उनके जीवन मेंु कितना उपसर्ग हुआ यह आपको सब मालूम है ।
प्रचार प्रसार मंत्री संजय कुमार जैन व प्रवक्ता कमल गंगवाल ने बताया कि आज प्रातः सोनीनगर मन्दिरजी में व पंचकल्याणक पांडाल में जिनेन्द्र भगवान के अभिषेक सभी पात्रों द्वारा किये गये तथा वृहषान्तिधारा करने का सौभाग्य प्रकाषचंद राजकुमारी पल्लीवाल परिवार द्वारा की गयी तथा नित्य नियम पूजन, याज्ञमंडल पूजन, आदिनाथ भगवान की पूजा,  आचार्य श्री का पाद प्रक्षालन, चित्र दीप प्रज्ज्वलन, शास्त्रभेंट विजय जैन पल्लीवाल परिवार द्वारा किया गया तथा उनकी समिति की ओर से साफा पहनाकर अभिनंदन किया गया । तत्पष्चात आदर्ष महिला मंडल द्वारा सुन्दर मंगलाचरण प्रस्तुत किया गया व इन्द्र सभा, भगवान की युवराज पद का राज्याभिषेक हुआ, तथा दोपहर में राजा व सौधर्म इन्द्र के दरबार में बाल क्रीडा कार्यक्रम प्रतिष्ठाचार्य पं. कुमुदचंद सोनी, पं. लादूलाल जैन, पं. विषाल जैन के द्वारा सम्पन्न हुयी ।
सात प्रतिमाधारी का नियम
इन्दौर निवासी सुषीला बहन ने आज आचार्य श्री के समक्ष श्रीफल अर्पित कर सात प्रतिमाधारी का नियम ग्रहण किया इससे पूर्व वे पांच प्रतिमाधारी नियम की पालना कर रही थी ।
जैन व गंगवाल ने बताया कि बाल क्रीडा के पष्चात भगवान के जन्म के पष्चात युवराज पार्ष्वनाथ को पालकी में बैठाकर सभी त्यागीव्रती ब्रं. सुकान्त भैया के सान्निध्य में सौधर्म इन्द्र व सभी इन्द्रो, महामंडेलष्वर तथा राजाओं द्वारा जुलूस के रूप में पांडाल से झंडारोहण स्थल तक ले जाया गया तथा वहां से युवराज जंगल की ओर तप के लिये निकल पडे।
अध्यक्ष डॉ. राजकुमार गोधा ने बताया कि आज रात्रि में 6.30 बजे दिलीव -रंजना दोसी परिवार द्वारा उनके निवास से गजरथ पर सवार होकर पंचकल्याणक पांडाल पहुंची जहां पर भगवान श्री की भव्य महाआरती सम्पन्न हुई । तत्पष्चात विद्यासागर तपोवन महिला मंडल द्वारा सुन्दर नाटय कमठ का उपसर्ग का प्रस्तुतीकरण किया गया । तथा दोसी हाउस में पंचकल्याणक भोजन व्यवस्था में पंचषील महिला मंडल तथा गोधा गुवाडी इकाई द्वारा सुन्दर भोजन व्यवस्था संभाली गई ।
ज्ञान कल्याणक पर्व मनाया जायेगा
मुख्य संयोजक मनोज अजमेरा ने जानकारी दी कि 1 फरवरी को सुबह 6.45 बजे नित्य नियम पूजन, अभिषेक, महाषान्तिधारा, आचार्यश्री के मंगल प्रवचन होगा 10 बजे भगवान का आहार होगा, दोपहर 1 बजे ज्ञानकल्याणक की क्रियायें, समोवषरण की रचना एंव दिव्य ध्वनि ज्ञान कल्याणक की पूजा तथा रात्रि में 6.30 बजे महाआरती, तथा सांस्कृतिक नाटक 8.30 बजे पंचषील महिला मंडल इकाई द्वारा प्रस्तुत किया जायेगा ।
संजय कुमार जैन कमल गंगवाल
प्रचार प्रसार संयोजक  प्रवक्ता
9828173258 9829007484

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here