श्री दिगंबर जैन सिद्ध , द्रोणागिरी क्षेत्र की वंदना की

0
64

प्रवचन केसरी विश्रांत सागर महाराज सत्संग/

संवाददाता महावीर कुमार जैन सरावगी जैन गजट
18 जनवरी 2024 गुरुवार
जिला छतरपुर मध्य प्रदेश
परम पूज्य गणाचार्य गुरुवर 108 विराग सागर जी महाराज के परम शिष्य प्रवचन केसरी विश्रांत सागर महाराज सत्संग ने भयंकर कड़ाके की सर्दी में सिद्ध क्षेत्र द्भोण गिरी की वंदना की
यह सिद्ध क्षेत्र लघु सम्मेद शिखर जी की तरह है जहां पर प्रतिदिन जैन बंधु माता बहन वंदना के लिए पहुंचते हैं

प्रवचन केसरी विश्रांत सागर महाराज ने भक्तों को संबोधित करते हुए बताया
रामचरितमानस पर प्रवचन करते हुए बताया राम की कथा बहुत ही बड़ी है जिसका हर पात्र अपने आप में कुछ ना कुछ संदेश देता है रामचरितमानस राम के चरित्र को धारण करने वाला है
मुनि ने बताया राम मंदिर दुनिया को संदेश देगा जहां पिता के वचन को निभाने के लिए संपूर्ण राज्य को त्याग कर छोड़कर बेटा जंगल में चला गया

मुनि ने यह भी बताया की रावण हर चीज में राम से बड़ा था धन में बड़ा था सोने की लंका थी ताकत में राम से बड़ा था 10 आदमी की ताकत रावण में थी सबसे बड़ा पंडित था फिर भी किस कारण रावण हार गया क्योंकि चरित्र में राम रावण से बड़े थे रावण के पास कोई गुरु नहीं था जो ज्ञान का आभास कर सके
इस कारण से रावण युद्ध यह हारा था

आज राम जग जग के राम के नाम से पूजे जाते हैं

महावीर कुमार जैन सरावगी जैन गजट संवाददाता नैनवा जिला बूंदी राजस्थान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here