श्रमण संस्कृति बोर्ड का गठन करवाने की मांग

0
208

मुख्यमंत्री से मिला जैन समुदाय का प्रतिनिधिमंडल
जयपुर l दशाहुमड़ दिगम्बर जैन समाज के अध्यक्ष दिनेश खोड़निया एवं प्रमुख उद्योगपति अशोक पाटनी के नेतृत्व में जैन समुदाय के प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात कर प्रदेश में श्रमण संस्कृति बोर्ड का गठन करने की मांग करते हुए अपना ज्ञापन सौंपा l
इस अवसर पर वरिष्ठ अधिवक्ता एवं दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र श्रीमहावीरजी के अध्यक्ष सुधान्शु कासलीवाल और मानद मंत्री महेन्द्र कुमार पाटनी ने बताया कि प्राग्वैदिककाल से श्रमण संस्कृति विद्यमान है l जैन धर्म के संरक्षण एवं जैन संतो की चर्या के पालन के लिए प्रदेश में श्रमण संस्कृति बोर्ड का गठन आवश्यक होकर महत्तवपूर्ण है l जैन तीर्थ क्षेत्र,अतिशय क्षेत्र,जैन मन्दिर, उपाश्रय,धर्मशालाए,भोजनशाला, औषधालय,चिकत्सालय की सुरक्षा के साथ जैन संतो साध्वियों के विहार के दौरान सुरक्षा,मूलत: प्राकृत अपभ्रंश एवं पाली भाषाओं में हस्तलिखित जैन साहित्य सहित प्राचीन ग्रंथों की सुरक्षा मौजूदा परिस्थितियों में बेहद जरूरी है l

वरिष्ठ अधिवक्ता खिल्लीमल जैन व श्री भारतवर्षीय दिगम्बर जैन महासभा के अध्यक्ष रमेश तिजारिया ने बताया कि श्रमण संस्कृति केन्द्र में वर्तमान समय में सैकड़ों छात्र -छात्राएं अध्ययनरत है जिन्हे संस्कृत, अपभ्रंश भाषा,जैन दर्शन के साथ जैन धर्म की शिक्षा दी जा रही है और जैन विद्या संस्थान एवं अपभ्रंश साहित्य अकादमी में हजारों पांडुलिपियों एवं पुस्तकों का संग्रह है l
श्री दिगम्बर जैन आदर्श महिला महाविद्यालय समिति के अध्यक्ष चन्द्र प्रकाश जैन तथा श्री दिगम्बर जैन श्रमण संस्कृति संस्थान के अध्यक्ष प्रमोद पहाड़िया ने मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि प्रदेश में श्रमण संस्कृति बोर्ड के गठन से ना केवल देश में बल्कि समूचे विश्व में सुख शान्ति,अहिंसा का वातावरण बनेगा l इससे पं.जवाहरलाल नेहरू के पंचशील के सिद्धान्त वृद्धिगत होगे l से.नि. आई.ए.एस.अशोक जैन एवं समाज सेवी कमल बाबू जैन ने बताया कि वर्तमान समय प्रदेश में बड़ी संख्या में अल्पसंख्यक वर्ग का जैन समुदाय निवास करता है इसके बावजूद भी जैन संस्कृति और जैन संस्थाओं का संचालन स्वतंत्र रूप से नही हो पा रहा है समय-समय पर अनेक विरोधी तत्व एवं संगठन जैन समुदाय के सदस्यो,जैन साधु संतो एवं संस्थाओं के विरुद्ध बयानबाजी और हमला करते रहते है l

इस अवसर पर राजस्थान समग्र जैन युवा परिषद् के संरक्षक अशोक बांठिया और अध्यक्ष जिनेन्द्र जैन ने बताया कि प्रदेशभर में कई श्रमणों ने समाजिक कार्यक्रमों में मुख्यमंत्री के सम्मुख और गौसेवा आयोग के अध्यक्ष मेवाराम जैन ने विधानसभा में इस सन्दर्भ में मांग उठाई व राष्ट्रीय अल्पसंख्यक शैक्षणिक संस्था आयोग के अध्यक्ष जस्टिस नरेन्द्र कुमार जैन व कई कैबिनेट मंत्री,राज्यमंत्री, विधायक तथा अल्पसंख्यक वर्ग के जैन और अन्य समुदाय के कई संगठनो ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिख कर श्रमण संस्कृति बोर्ड का गठन करने की मांग की है l इस अवसर पर विनोद कुमार कोटखावदा,प्रदीप जैन,सुभाष चन्द जैन,मनीष वैद,पदम चन्द बिलाला, हिम्मत चन्द डोसी,प्रकाश चन्द लोढ़ा, राकेश गोधा,सुभाष गोलेछा आदि कई समाज श्रेष्ठि उपस्थित थे l

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here