प्रतिभाओं का सम्मान करना उनकी सफलता का परिचय- गणाचार्य विराग सागर जी महाराज

0
332

विरागोदय महामहोत्सव 2023 पथरिया में राष्ट्रीय जैन प्रतिभा सम्मान में 300 से ज्यादा प्रतिभाऐं हुई सम्मानित

सागर – भारत गौरव गणाचार्य परम पूज्य गणाचार्य श्री विराग सागर जी महाराज के ससंघ सानिध्य में 1 फरवरी से 15 फरवरी तक विरागोदय महामहोत्सव 2023 जो बुंदेलखंड के दमोह जिले के पथरिया तहसील में चल रहा है उसी कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रीय जैन प्रतिभा सम्मान का कार्यक्रम रखा गया, जिसमें भारतवर्ष के जैन -जैनत्तर 300 से ज्यादा प्रतिभाओं ने भाग लिया । कार्यक्रम का के निर्देशन श्रणीय आर्यिका विरम्या श्री माताजी,आर्यिका विसंयोजना श्री माता जी में सफलता पूर्वक संपन्न हुआ। मंगलाचरण कु. सृष्टि जैन, चित्रअनावरण एवं दीप प्रज्वलन मंचासीन अतिथि द्वारा किया गया।

कार्यक्रम में ये रहे उपस्थित

मा. राहुल लोधी कैबिनेट मंत्री दर्जा प्राप्त दमोह, सुनील जैन पूर्व विधायक सागर, डॉ. मनीष वर्मा संभागीय शिक्षा अधिकारी सागर संभाग , कपिल मलैया युवा उद्योगपति सागर संतोष मिश्रा जिला शिक्षा अधिकारी दमोह, प्रकाश मोदी चेयरमैन पारस चैनल, सुदेश भूषण जैन चेयरमैन पंजाब केसरी, प्रवीण जैन संपादक दैनिक विश्वा परिवार झांसी , प्राचार्य अशोक तिवारी ब्लॉक शिक्षा अधिकारी शाहगढ़ सुभाष जैन ब्लॉक शिक्षा अधिकारी पथरिया।

कार्यक्रम के मुख्य संयोजक जनर्लिस्ट मनीष शाहगढ़ ने बताया कि 15 दिन की तैयारी में राष्ट्रीय जैन प्रतिभा सम्मान समारोह का यह सफलतम आयोजन हुआ,, जिसमें 300 से ज्यादा प्रतिभाओं का सम्मान किया गया । पथरिया नगर के 150 जैनत्तर विद्यार्थियों का भी सम्मान इस मंच से किया गया इस कारण यह आयोजन विशेष रहा ।

इन स्कूलों के विद्यार्थी हुए शामिल

शासकीय उत्कृष्ट उच्चतर विद्यालय, शासकीय उत्कृष्ट कन्या विद्यालय, शासकीय मॉडल विद्यालय, सरस्वती उच्चतर माध्यमिक मंदिर, डी.के उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के विद्यार्थियों का सम्मान किया गया। इसके साथ 150 विद्यार्थी देश के अनेक राज्यों से कार्यक्रम में पहुंचे, इन विद्यार्थियों की जानकारी ऑनलाइन के माध्यम से संकलित की गई थी।

इस इस आयोजन का विशेष महत्व इसलिए

भारत गौरव परम पूज्य आचार्य विद्यासागर जी महाराज एवं आचार्य श्री विनय सर सागर जी महाराज की जन्म स्थली पर ब्लॉक रुदाय तीर्थ जिसमें हॉस्पिटल विद्यालय गौशाला एवं जैन मंदिर के साथ इस तीर्थ स्थापना जनकल्याण के उद्देश्य की गई है, जो 1 तारीख से 15 फरवरी 2023 तक यति सम्मेलन ,पंचकल्याणक महा महोत्सव एवं महा मस्तकाभिषेक के साथ इस तीर्थ की प्रतिष्ठा होगी । भारत देश के कोने कोने से धर्म प्रेमी जन इस महा महोत्सव में शामिल होने के आ रहे हैं एवं 350 से ज्यादा मुनि- आर्यिकायों का सानिध्य इस आयोजन मे है ।

राष्ट्रीय जैन प्रतिभा सम्मान समारोह के मुख्य संयोजक मनीष विद्यार्थी शाहगढ़ के साथ स्थानीय संयोजक संजय फुसकेले शिक्षक, राजेश जैन लाला, इंजी. विनोद जैन ग्वालियर इंजी. महेश जैन पी.एच.ई सागर, राजेंद्र महावीर सनावद, सुनील संचय ललितपुर, पंकज जैन छतरपुर आदि का विशेष सहयोग में कार्यक्रम संपन्न हुआ। कार्यक्रम का संचालन राजेंद्र महावीर सनावद एवं सुनील संजय ललितपुर ने किया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ. मनीष वर्मा ने अपने वक्तव्य में इस कार्यक्रम की सराहना की एवं उपस्थित विद्यार्थियों को शुभकामनाएं प्रेषित की परम पूज्य आचार्य श्री विराग सागर जी ने अपने प्रवचन में विद्यार्थियों के लिए मार्गदर्शन करते हुए कहा कि मात- पिता गुरु जनों के सम्मान प्रत्येक विद्यार्थियों को करना चाहिए । साथ ही विद्यार्थियों को नशा नहीं करे, इस बात पर जोर दिया सभ्य समाज की स्थापना के लिए हमारे लिए सभ्य होना जरूरी है, ऐसे अनेक शिक्षाप्रद बातें विद्यार्थियों के लिए कहीं और उन्हें अपने जीवन में उतारने की प्रेरणा दी आचार्य श्री ने कहा कि हम लोग अगर इन प्रतिभाओं का सम्मान करते हैं तो इनका परिचय समाज को कराते हैं, और उनके साथ समाज के अन्य विद्यार्थी भी प्रेरणा लेकर अपने जीवन को सफल बनाने का प्रयास करते हैं। भारतीय संस्कृति ऋषि- मुनियों की संस्कृति है इसलिए हमारे यहां गुरुकुल की परंपरा से शिक्षा दी जाती थी, लेकिन पाश्चात्य सभ्यता का प्रवेश होना हमारी संस्कृति के पतन का कारण है , अनेक शिक्षाप्रद बातों के साथ आचार्य श्री ने सभी को मंगल आशीर्वाद दिया ।कार्यक्रम का आभार संयोजक मनीष विद्यार्थी ने माना।

  • मनीष विद्यार्थी शाहगढ़
    कार्यक्रम संयोजक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here