केंद्र और गुजरात सरकार को जैन समाज की चेतावनी, अगर कार्यवाही नही हुई तो होगा भाजपा का पूर्ण बहिष्कार

0
57

जयपुर। जैन समुदाय और दत्तात्रय समुदाय में गुजरात के जूनागढ़ में स्थित श्री गिरनार पर्वत को लेकर लंबे समय से आपसी विवाद चल रहा है, जिसको लेकर मामला कोर्ट में विचाराधीन होने के बावजूद आए दिन कोई ना कोई घटनाक्रम देखने को मिलते है, जिसमें सभी घटनाएं केवल जैन साधुओं और श्रद्धालुओं पर ही होती देखी जाती है, भले ही वर्ष 2013 का मुनि प्रबल सागर महाराज पर कातिलाना हमला हो या फिर जैन श्रद्धालुओं के साथ मार पिटाई का मामला हो, आए दिन यह घटनाक्रम देखने को मिलते है। किंतु इस बार का ताजा मामला शनिवार 28 अक्टूबर का है जिसमें भाजपा के पूर्व सांसद और पूर्व राष्ट्रीय सचिव महेश गिरी ने एक सभा को संबोधित करते हुए जैन समाज को खुली धमकी दी है, शनिवार को अपने भाषण में महेश गिरी ने गुरु शिखर पर्वत (गिरनार पर्वत) पर चढ़ने वाले दिगंबर जैन साधुओं और श्रद्धालुओं के सर धड़ से अलग करने की धमकी दी है। जैसे महेश गिरी का यह भाषण वायरल होने लगा, वैसे वैसे ही संपूर्ण भारतवर्ष के जैन समाज में आक्रोश बढ़ता चला गया। जब सकल जैन समाज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल से मांग कर रहे है की जैन समाज की धार्मिक भावनाओं को आहत करने, जान से मारने की धमकी देने, आस्था के साथ खिलवाड़ करने वाले महेश गिरी को तत्काल गिरफ्तार करवाएं और कठोरतम कार्यवाही की जाए, पिछले 3 दिनों से जैन समाज में भारी आक्रोश है किंतु ना केंद्र सरकार सुनवाई कर रही है ना राज्य सरकार सुनवाई कर रही है और ना ही प्रशासन कार्यवाही कर रहा है। अगर जल्द से जल्द कार्यवाही नही होती है तो संपूर्ण भारत वर्ष का जैन समाज जिसकी 2 करोड़ से अधिक आबादी पूरे देश में प्रवास करती है वह सभी भाजपा का पूर्ण बहिष्कार करेगे और सड़कों पर भाजपा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करेगे।

अखिल भारतीय दिगंबर जैन युवा एकता संघ अध्यक्ष अभिषेक जैन बिट्टू ने कहा की जब वर्ष 2013 के मुनि प्रबल सागर महाराज पर कातिलाना हमला हुआ था तब भी महेश गिरी इस हमले में शामिल था, किंतु भाजपा ने महेश गिरी को चुपचाप अपना समर्थन देकर वर्ष 2014 में दिल्ली की एक लोकसभा सीट से सांसद का टिकट दिया और सांसद बन गया। जब से केंद्र ने भाजपा की सत्ता आई है तब से मामला लगातार दबलता चला गया और अनगिनत बार जैन श्रद्धालुओं के साथ मार पिटाई की खबरें सामने आने लगी, हर बार जैन समाज कार्यवाही की मांग करता रहा किंतु कभी कार्यवाही नही हुई। इसी तरह की घटना पिछले 1 महीने से घट रही थी अभी कुछ दिवस पूर्व जैन श्रद्धालुओं का एक दल गिरनार पर्वत पर दर्शनों के लिए गया था, जहां पर उन्होंने भगवान नेमीनाथ स्वामी जयकारों के नारे लगाए तो, दत्तात्रय समुदाय के जो पंडे वहां मौजूद थे उन्होंने पहले उनके साथ मार पिटाई की और फिर उनको हथियार दिखाकर डरा – धमका कर वहां से भगा दिया, एक के एक सदस्य ने चुपचाप एक वीडियो बना लिया था तो उसकी शिकायत लेकर वह थाने गए किंतु गुजरात के भाजपा सरकार होने और महेश गिरी के प्रभाव को देखकर पुलिस थाने वालों ने शिकायत तो ले ली लेकिन दर्ज नहीं की, जब महेश गिरी को इसकी जानकारी हुई तो उसने अपने प्रभाव के चलते पीड़ित श्रद्धालुओं के खिलाफ ही FIR दर्ज करवा दी, जेसे ही इस घटना की जानकारी समाज के बीच मे आने लगी तो महेश गिरी घबरा गया और 28 अक्टूबर को सनातन धर्म के नाम पर पालीताणा सहित अन्य क्षेत्रों के साधु संतो और दत्तात्रय समाज बंधुओ को एकत्रित कर सभा बुलाई और उस सभा को संबोधित करते हुए खुले मंच से गुरु शिखर पर्वत (गिरनार पर्वत) पर चढ़ने वाले नागा बाबा (दिगंबर जैन संत) और श्रद्धालुओं को पर्वत पर चढ़ने पर सर धड़ से अलग करने की धमकी देता है। जिसका बकायदा वीडियो भी वायरल हो रहा है। महेश गिरी के इस बयान के बाद से पूरे भारत का जैन समुदाय आक्रोशित है और गिरी को गिरफ्तार कर सख्त से सख्त सजा की मांग कर रहा है। अगर केंद्र और गुजरात सरकार कार्यवाही नही करती है तो पूरा जैन समाज भाजपा का पूर्ण बहिष्कार करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here