काठमांडू नेपाल में मुनि श्री विशुद्ध रत्न सागर एवं मुनि श्री समकित रत्न सागर जी महाराज के पावन सानिध्य में मनाया गया अखिल भारतीय जैन ज्योतिषाचार्य परिषद का तृतीय स्थापना दिवस

0
39

जैन धर्म की अनुपम कृति जैन ज्योतिष को विश्व पटेल पर अंकित करने की भावना से तीन वर्ष पूर्व स्थापित अखिल भारतीय जैन ज्योतिषाचार्य परिषद (पंजी.)का तृतीय स्थापना दिवस 18 नवम्बर 2023 को भगवान महावीर जैन निकेतन, कमल पोखरी, काठमांडू, नेपाल में परिषद के संस्थापक व अध्यक्ष आदिनाथ चैनल फेम श्री रवि जैन गुरुजी की अध्यक्षता में मनाया गया इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पूर्व मंत्री एवं सांसद श्री संजय गौतम जी नेपाल रहे।

नेपाल जैन परिषद के तत्त्वाधान में आयोजित इस कार्यक्रम में मुनिश्री विशुद्ध रत्नसागर एवं मुनिश्री समकित रत्नसागर जी महाराज साहब का पावन सानिध्य प्राप्त हुआ।
महाराज साहब ने भारत से पधारे सभी ज्योतिष आचार्य को अपना आशीर्वाद देते हुए कहा कि जैन ज्योतिष का प्रचार प्रसार आवश्यक है एवं ज्योतिष को अपना कर सभी अपने जीवन में आ रही समस्याओं को दूर कर सकते हैं।

इस आयोजन में अनेक ज्योतिषाचार्यों ने ज्योतिष के विभिन्न विषयों पर अपने विचार प्रस्तुत किए,डॉ जयेन्द्र कीर्ति (छड़ी वाले बाबा)उज्जैन ने जीवन में जैन ज्योतिष का महत्व एवं जैन मंत्रों द्वारा समस्याओं के समाधान, परिषद के उपाध्यक्ष श्री विनोद धर्मचंद जैन, पुणे ने जन्मकुंडली में मंगल दोष और उसका निवारण, शांतिनाथ उपाध्ये, बेलगांव ने शुभ मुहूर्त का महत्व, डॉ. त्रिशला सेठ, अहमदाबाद ने वृक्षारोपण द्वारा वास्तु दोष निवारण पर अपने विचार प्रस्तुत किए।
परिषद के संस्थापक अध्यक्ष श्री रवि जैन गुरूजी दिल्ली ने जैन ज्योतिष का महत्व एवं ‘जैन ज्योतिष जिज्ञासा समाधान’ कार्यक्रम के अंतर्गत विभिन्न व्यक्तियों की शंका का समाधान किया।

साथ ही 17 दिसंबर को विश्व जैन संगठन के तत्वावधान में होने वाले रामलीला मैदान में होने वाले पवित्र जैन तीर्थ स्थल गिरनार जी से संबंधित कार्यक्रम के लिए सभी को आमंत्रित किया व नेपाल में रहते हुए सांकेतिक रूप में समर्थन देने का निवेदन किया

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि श्री संजय गौतम, पूर्व मंत्री एवं सांसद नेपाल,ने अखिल भारतीय जैन ज्योतिष आचार्य परिषद के नेपाल आगमन पर सभी को धन्यवाद दिया, रवि जैन गुरुजी ने मुख्य अतिथि को आचार्य श्री 108 विशुद्ध सागर जी महाराज द्वारा विचरित ग्रंथ भेंट किया गया।

इस अवसर पर दक्षिण एशियाली ज्योतिष महासंघ नेपाल के अध्यक्ष डॉ.सहदेव बिष्ट, विश्व ज्योतिष महासंघ नेपाल के अध्यक्ष डॉ.लोक राज पोंडेल, नेपाल एवं अनेक गणमान्य व्यक्तियों की भी उपस्तिथि रही। इस भव्य कार्यक्रम का संयोजन डॉ जयेन्द्र कीर्ति (छड़ी वाले बाबा) उज्जैन व श्री पंकज जैन, काठमांडू, नेपाल द्वारा किया गया।

कार्यक्रम में सुमेर चन्द जैन दिल्ली, देवेन्द्र कुमार जैन दिल्ली, विनोद धर्मचंद जैन पुणे, विजय जैन मुम्बई, विमल जैन जबलपुर, राकेश जैन दिल्ली, डा.त्रिशला सेठ अहमदाबाद, पीयूष जैन, सुनीता जैन कल्पना जयपुर, ज्योत्स्ना जैन इटावा,धीरज जैन बड़ौत, बृजेश जैन ललितपुर, सुशील जैन दिल्ली, सम्मेद उपाध्ये सजनी, जय कुमार जैन दुर्ग आदि अनेक सदस्यों ने भाग लिया।

समस्त कार्यक्रम का कुशल मंच संचालन परिषद के सलाहकार श्री डी के जैन दिल्ली एवं श्री प्रदीप नौलखा द्वारा किया गया। जिसकी सभी ने प्रशंसा की।
नेपाल जैन परिषद के अध्यक्ष विमल चंद्र राखेचा एवम पदाधिकारी द्वारा सभी ज्योतिषाचार्यों का सम्मान तिलक, अंगवस्त्र एवं स्मृति चिन्ह देकर किया गया।
अखिल भारतीय जैन ज्योतिष आचार्य परिषद की तरफ से विकास जैन ग्वालियर व पं सुरेंद्र जैन, सलूंबर ने प्रशस्ति वाचन किया तथा नेपाल जैन समाज को प्रशस्ति भेंट की।

परिषद के सदस्यों का दिनांक 17 नवम्बर 23 से 21 नवम्बर 23 तक नेपाल प्रवास रहा, पांच दिवसीय नेपाल प्रवास में सभी सदस्यों ने काठमांडू, पोखरा, लुम्बिनी एवं आसपास के धार्मिक एवं पर्यटन स्थलों की यात्रा भी की। पोखरा झील में बोटिंग का भी आनन्द लिया, सभी सदस्यों ने नेपाल यात्रा के आयोजन के लिए डॉ जयेन्द्र कीर्ति जी एवं श्री रवि जैन गुरुजी का बहुत बहुत आभार प्रकट किया। भविष्य में भी ऐसे आयोजन करने का आग्रह किया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here