जो दुखी वो न होगा कभी सुखी:आचार्य प्रमुख सागर

0
17

गुवाहाटी : जो व्यक्ति हमेशा शौकाकुल रहता है, रूठा रहता है, दूसरों की निंदा स्वयं की प्रशंसा करता है, बात-बात में मरने की धमकिया देता है, ऐसे विचार, भाव, परिणाम, वाला कपोत लेश्या वाला होता है। उन्होंने कहां की हमें हमेशा खुश रहना चाहिए। किसी से भी नाराज नहीं होना चाहिए। यह उक्त बातें भगवान महावीर धर्म स्थल में विराजित आचार्य प्रमुख सागर महाराज ने गुरुवार को एक धर्म सभा में उपस्थित श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि दूसरों की निंदा स्वयं की प्रशंसा से नीचे गोत्र का आश्रव होता है, बंध होता है। आप कपोत लेश्या के परिणामों से बचे मरने की धमकी ना दे, नहीं आत्महत्या करे, क्योंकि आत्म-हत्या करने वाला दुर्गति का पात्र होता है और कई कुयुतिंयो में भटकता है। कृष्ण, नील, कपोत,यह तीनों लेश्याए अशुभ है इससे बचना चाहिए। प्रचार प्रसार के मुख्य संयोजक ओम प्रकाश सेठी ने बताया कि आगामी 25 जनवरी से आयोजित होने वाले पंचकल्याण प्रतिष्ठा महोत्सव की तैयारियां जोर-शोर से चल रही है।इस महोत्सव को लेकर पूर्वोत्तर की सकल जैन समाज काफी उत्साहित है। प्रचार प्रचार सहसयोंजक सुनील कुमार सेठी ने बताया कि इस महोत्सव को लेकर समाज के युवाओं एवं यूवक्तियों में भी काफी जोश देखा जा रहा है।।

सुनील कुमार सेठी
प्रचार प्रसार विभाग
श्री दिगंबर जैन पंचायत
गुवाहाटी (असम)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here