जैन धर्म के जयकारों के बीच भगवान महावीर की प्रतिमा हुई विराजमान

0
8

कस्बे के कोट ऊपर स्थित आदिनाथ दिगम्बर जैन बड़े मंदिर में जिनेंद्र शास्त्री मथुरा के निर्देशन में शांति विधान का आयोजन पदमचंद रवि कुमार शैलेश जैन टाल वाले परिवार द्वारा आयोजित कर भगवान महावीर की नवीन प्रतिमा मूल वेदी में जैन धर्म के जयकारों के बीच विराजमान की गई।
जैन समाज से प्राप्त सूचना के अनुसार फिरोजपुर झिरका में आचार्य ज्ञानभूषण महाराज के सानिध्य में आयोजित पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव में प्रतिष्टित चौबीसवें तीर्थकर भगवान महावीर की प्रतिमा को विधि विधान से मूल वेदी में विराजमान कराया गया तो वही इस अवसर पर जिनेंद्र शास्त्री ने कहा कि बड़े ही पुण्य के प्रताप से भगवान की प्रतिमा विराजमान करने का सौभाग्य प्राप्त होता है। कामां जैन समाज बड़ी ही धार्मिक भावनाओं से ओत प्रोत है यहां धार्मिक आयोजन अनवरत होते ही रहते हैं। कार्यक्रम में दीपक जैन सर्राफ,संजय जैन सर्राफ,संजय जैन बड़जात्या ने अपने विचार रखते हुए कहा कि पुण्य की क्रियाओं की अनुमोदना के साथ साथ उनमें सम्मिलित भी होना चाहिए। इस अवसर पदमचंद जैन ने सभी का आभार व्यक्त किया। मधुर संगीत के साथ सभी ने भक्ति का आनंद लिया।
कार्यक्रम में बड़ी संख्या में जैन समाज की महिलाएं,पुरुष व बच्चे उपस्थित रहे।
पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव 28 से पंचकल्याणक समिति के प्रचार प्रभारी रवि जैन लहसरिया ने बताया कि आगामी 28 फरवरी से आचार्य सुनील सागर महाराज ससंघ के सानिध्य में कामां में भव्य पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव का आयोजन होगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here