दो संतों का महामिलन हुआ

0
13

गुवाहाटी : फैंसीबरजा के भगवान महावीर धर्म स्थल में शनिवार को आध्यात्मिक गुरु श्री रवि शंकर ने आचार्य श्री प्रमुख सागर महाराज के दशर्नाथ पधार कर उनसे अध्यात्मिक विषय पर वार्तालाप की। इस अवसर पर पंचायत के अध्यक्ष महावीर जैन ने उनके आगमन पर फूलोंम- गमछा पहना कर स्वागत किया। तत्पश्चात आध्यात्मिक गुरु ने कहा की दिगंबर संत संपूर्णता से धनी होते हैं। उनको वाहे से किसी चीज की आवश्यकता नहीं है। यह अपने आप में परिपूर्ण है। आचार्य श्री प्रमुख महाराज ने कहा की ऋषि- मुनि मिलते रहेंगे तो हमारी भारतीय संस्कृति बची रहेगी। उन्होंने कहा की रवि शंकर जी एक ऐसे गुरु है जिन्होंने पूरे विश्व को ध्यान के माध्यम से अरोता – आगजता और अहंकार के दंड – फंड से बचा दिया है।आज इस मानवता को संतो-भगवंतो के मंगल सानिध्य से अपने जीवन का कल्याण अवश्य करना चाहिए। आचार्य श्री ने गुरु जी की कलाई में रक्षा सूत्र धागा बांध कर अपना मंगल आशीर्वाद प्रदान किया ।उन्होंने गुरु जी को सूर्य पहाड़ की जानकारी देते हुए कहा कि यह एक ऐसा संगम स्थान है जहा हिंदुत्व के शिव, बुध के बौध,व जैंनियौं के आदिनाथ तीनों का समावेश है। उन्होंने आध्यात्मिक गुरु को आगामी 26 से 31 जनवरी तक गुवाहाटी मे आयोजित होने वाले पंच- कल्याणक महोत्सव में आने का निमंत्रण भी दिया। यह जानकारी प्रचार प्रसार के सहसंयोजक सुनील कुमार सेठी द्वारा दि गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here