छोड़ना और छूट जाना : आचार्य श्री प्रमुख सागर महाराज

0
19
गुवाहाटी :  फैंसी बाजार स्थित भगवान महावीर धर्मस्थल में विराजित आचार्य श्री प्रमुख सागर महाराज ने आज (गुरुवार) को धर्म सभा में उपस्थित श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए कहा की जैसे-जैसे ज्ञान में उत्तम तत्व आता है तो विषय भोग संसार के अरुचिकर लगते हैं। जैसे-जैसे आत्मा के पास पहुंचोगे वैसे-वैसे बहार के पदार्थ अरुचिकर लगेंगे। आदमी जैसे-जैसे आगे बढ़ता है वैसे वैसे पीछे की वस्तु छूट जाती। जैसे-जैसे आदमी अपनों के नजदीक पहुंचता है वैसे-वैसे संसार पीछे रह जाता हैं। आचार्य श्री ने कहा कि जब हमें कोई अच्छी वस्तु मिलती है तो बुरी वस्तु की तरफ ध्यान ही नहीं जाता है।  इसलिए बुरी आदतों को छोड़ने का प्रयास करो नहीं तो जबरदस्ती छुडा़ ली जाएगी। जब तक वस्तु अच्छी लग रही है तब तक तब छोड़ नहीं रहे हो और जैसे ही वस्तु के प्रति राग खत्म, उस समय वो संसार की वस्तु अरुचिकर ही लगेगी। आचार्य श्री ने कहा की बुरे समय को जल्दी से छोड़ देना नहीं छोड़ा तो जीवन में नकारात्मक शक्ति आएगी और और सोच खराब हो जाएगी।
अगर आपके अंदर साधु बनने की और आत्म तत्व पाने की रुचि पैदा हो गई तो सब संसार अरुचिकर लगेगा। उन्होंने कहा कि आस पर आसमान टिका है और विश्वास पर तथा हम सब की आस्था पर भगवान टिका है। हमें हमेशा एक ही प्रयास करना है कि हमें जीवन में अच्छे लोग मिले ओर अच्छी बातें सीखने और सुनने को मिले। इससे पूर्व आज प्रातः आचार्य श्री ससंघ के मुखारविंद से श्रीजी की शांतिधारा करने का परम सौभाग्य वर्षा योग समिति के मुख्य संयोजक ओमप्रकाश-प्रभादेवी सेठी परिवार गुवाहाटी /बेंगलुरु को प्राप्त हुआ। इस अवसर पर काफी संख्या में गुरु भक्त एवं श्रद्धालु उपस्थित। यह जानकारी समाज के प्रचार-प्रसार विभाग के मुख्य संयोजक ओम प्रकाश सेठी एवं सह संयोजन सुनील कुमार सेठी द्वारा दी गई।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here