अपने मूल्यों की रक्षा धर्म के माध्यम से : आचार्य विवेक सागर

0
207

जयपुर। एशिया की सबसे बड़ी कॉलोनियों में शुमार मानसरोवर के वरुण पथ स्थित दिगंबर जैन मंदिर में चल रहे आचार्य विवेक सागर महाराज के मंगल चातुर्मास के आचार्य श्री ससंघ सानिध्य में आयोजित शनिवार को विशेष धर्मसभा का आयोजन हुआ। सभा में उपस्थित समाज बंधुओं को मंगल आशीर्वाद देते हुए आचार्य विवेक सागर महाराज ने कहां की ” जब जीवन सब कुछ करने के पश्चात भी अगर माइनस में चला जाए तो तब हम सोचते हैं कि हमने हमारे जीवन में क्या किया दुनिया में सबसे योग्य जीव मनुष्य है लेकिन वह अपने जीवन को सुंदर व सामर्थ वाला नहीं बना पाता क्योंकि वह अपनी व्यवस्थाओं में उलझा रहता है।

जब उसका पुण्य का समय होता है तो वह मुस्कुराता है और प्रसन्न रहता है लेकिन जैसे ही उसका पुण्य का समय समाप्त होता है वह उदासीन और परेशान हो जाता है लेकिन वह यह समझने की कोशिश नहीं करता कि ऐसा क्यों हो रहा है क्योंकि जब पुण्य का समय होता है उस वक्त किया जा रहे धर्म को यदि वह निरंतरता प्रदान करता है तो जब पढ़ने का समय नहीं होता तब भी जो होगा अच्छा ही होगा सोच कर कार्य करें तो उसके जीवन से कभी भी प्रसंता गायब नहीं होगी।

बंधुओं मैं बार-बार आप सभी से एक ही बात कहता हूं कि अपने जीवन में धर्म को अंगीकार करो क्योंकि जो कुछ भी आपको प्राप्त हो रहा है या होने वाला है उसके पीछे कोई है तो केवल आपके द्वारा किया गया धर्म, दान और पुण्य है इनसे ही आपके जीवन में बंद रहे कर्मों से मुक्ति मिल सकती है इसलिए धर्म के कार्य सदैव करते रहे निश्चित रूप से आपका व आपके परिवार के जीवन में मंगल ही मंगल होगा।

स्वर्ण जयंती महोत्सव आज (रविवार को), होगा पाद प्रक्षालन, 51 परिवार करेगे शास्त्र भेंट, अष्ट द्रव्य से होगी गुरु पूजा

युवा कार्यकर्ता अभिषेक जैन बिट्टू ने जानकारी देते हुए बताया कि रविवार को आचार्य विवेक सागर महाराज का स्वर्ण जयंती दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा। इस अवसर पर दोपहर 12:15 पर मंदिरजी से बैंड – बाजों और जयकारों के साथ श्रद्धालुओं और गुरुभक्तो के साथ पूज्य गुरुदेव को सेक्टर तीन स्थित सामुदायिक केंद्र भव्य जुलूस (शोभायात्रा) प्रवेश संपन्न करवाया जाएगा। जहां आचार्य श्री के पाद प्रक्षालन एवं 51 परिवारों द्वारा शास्त्र भेंट किए जायेंगे। अष्ट द्रव्यों और विधि-विधान पूर्वक गुरु पूजन होगी।

जुलूस प्रभारी विनेश सोगानी ने जानकारी देते हुए कहा कि स्वर्ण जयंती के अवसर पर आयोजित जुलूस में 108 महिलाएं केसरियां साड़ी धारण कर, सर पर मंगल कलश लेकर चलेंगी, पुरुष सफेद परिधान धारण कर चलेंगे। इसके पश्चात धर्मसभा होगी, जिसकी शुरुवात मंगलाचरण से होगी। जिसमे ऐलक वीप्रमाण सागर महाराज द्वारा भजन प्रस्तुत किया जायेगा।

दीक्षा दिवस पर मुनि अर्चित सागर ने किया केश लोच

आचार्य विवेक सागर महाराज के शिष्य मुनि अर्चित सागर महाराज का शनिवार को प्रथम मुनि दीक्षा दिवस मनाया गया। इस अवसर पर मुनि श्री ने अपना केश लोच किया। इस दौरान भगवान महावीर स्वामी एवं तपस्वी सम्राट आचार्य रत्न सुमति सागर महाराज के चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलित करने एवं आचार्य विवेक सागर महाराज का पाद प्रक्षालन कर शास्त्र भेंट करने का सौभाग्य बाबूलाल जैन पोहरी, पुरुषोत्तम जैन शिवपुरी, सतीश चंद जैन बामोर कला, आशीष जैन फिरोजाबाद, श्रीमती निशा जैन, पवन जैन और आरती करने का सौभाग्य रोती, चारु, पंडित अनेकांत शास्त्री ने प्राप्त किया। इस अवसर पर समाज समिति अध्यक्ष एमपी जैन, मंत्री जेके जैन, उप संगठन महावीर पाटनी, राजेंद्र सोनी, विमल बाकलीवाल, संतोष कासलीवाल, सतीश कासलीवाल, श्रीमती कृष्णा जैन, श्रीमती मंजू कासलीवाल ने सभी अतिथियों का तिलक एवं माल्यार्पण कर स्वागत अभिनंदन किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here