9 वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर हुआ विशेष योग शिविर का आयोजन

0
161

भावना योग करा कर की सभी के लिये मंगल कामना
यमुनानगर, 21 जून (डा. आर. के. जैन):
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर चैरिटेबल ग्रुप व सकल जैन समाज के सौजन्य से महावीर भवन के सभागार में विशेष योग शिविर का आयोजन किया गया। शिविर की अध्यक्षता गिरीराज स्वरूप जैन ने की तथा संचालन योगाचार्य दिपाली जैन ने किया। शिविर का शुभारम्भ ओम् की ध्वनी व णमोकार महामंत्र के गुंजन से किया गया। शिविर की विशेषता यह रही कि इसमें महावीर योग, भावना योग, पंतजलि योग व अन्य योग क्रियाएं एवं प्रायाणाम आदि कराया गया। विशेष शिविर में लगभग 40 लोगों ने भाग लेकर योग क्रियाएं की। दिपाली जैन ने योग क्रियाएं कराते हुये बताया कि योग भारत की प्राचीन परंपरा की एक अमूल्य देन है। यह व्यायाम का एक ऐसा प्रभावशाली रूप है जिसके माध्यम से ना केवल शरीर के अंगों अपितु मन, मस्तिष्क और आत्मा में संतुलन बनाया जाता है। यही कारण है कि योग से शारीरिक व्याधियों के अतिरिक्त मानसिक समस्याओं से भी निदान प्राप्त किया जा सकता है। निरंतर योगाभ्यास द्वारा तेज दिमाग, स्वस्थ दिल, सकारात्मक भावों की जागृति और एक सुकून भरी जीवनशैली संभव है। उन्होंने बताया कि अपने दैनिक जीवन में योग को अपनाकर हम न केवल तनाव मुक्त बन सकते है अपितु एक आनंद वाली सरल जीवन जीने की प्रेरणा भी हम सभी को प्राप्त होती है। वर्तमान समय की भागदौड़ को देखते हुए आज योग की नितांत आवश्यकता भी है। विश्व के लगभग सभी देशों द्वारा योग की इस संस्कृति को सहज रूप में अपनाया जा रहा है। योगाचार्य डा. राजेन्द्र कुमार बताया कि भस्तिका, कपाल-भाती, बाह्य, उज्जायी, अनुलोम-विलोम, भ्रामरी, प्रणव (ध्यान) प्राणायाम को नियमित करने से बहुत से लाभ प्राप्त होते है। भावना योग के द्वारा प्रभु के चरणों में नमन-वंदन व आभार प्रकट करते हुये उनसे प्रार्थना की जाती है। इसको करने से मनुष्य को शक्ति प्राप्त होती है, साकारात्मक जीवन प्राप्त होता है, संयम मिलता है, जीवन में स्थिरता आती, अपने पथ में अडिग रहने का साहस मिलता है, हृदय में संतोष होता है और जीवन संतुष्टि व प्रसन्न रहने की प्रेरणा मिलती है। उन्होंने बताया कि भावना योग सिखाता है कि शांत रहें, सहज रहें, पवित्र रहें, संयम से रहें, स्वस्थ रहें व अपनी आत्मा को शुद्ध रखें। इस अवसर पर प्रियंका अग्रवाल, ध्रुव अरोड़ा, विनोद अरोड़ा, मुकेश नागपाल, पंकज गुप्ता, रिद्धी गुप्ता, चक्रेश जैन, सुलोचना जैन, ललिता जैन, कविता जैन, डा. स्नेहा जैन, सुमन जैन, स्नेहलता जैन, मंजू जैन, मुकेश जैन, संजीव जैन, विनोद जैन, पवन जैन, पुनीत जैन, अंकुर आदि ने भाग लिया।
फोटो नं. 1 व 2 एच.
योगाभ्यास कराती योग शिक्षिका व योगाभ्यास करते साधक………………(डा. आर. के. जैन)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here