तीर्थक्षेत्र कमेटी की पहली बैठक अहिक्षेत्र में सम्पन्न

0
127
तीर्थ, मंदिर मूर्तियां हमारी अनमोल धरोहर
 तीर्थ क्षेत्रों की धरोहर के संरक्षण और संबर्द्धन के लिए आगे आएं
उत्तरांचल उत्तराखंड के आंचलिक अधिवेशन में  तीर्थों के पदाधिकारी हुए शामिल
राष्ट्रीय कार्यकारिणी की नई टीम का विस्तार
अहिक्षेत्र रामनगर किला। भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी उत्तर प्रदेश उत्तराखंड का आंचलिक अधिवेशन  एवं नव निर्वाचित अखिल भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी की पहली बैठक श्री अहिक्षेत्र पार्श्वनाथ अतिशय दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र रामनगर किला (बरेली) में 30- 31 मार्च 2024 को  उत्साह पूर्वक सम्पन्न हुई। जिसमें अनेक तीर्थक्षेत्र कमेटी एवं तीर्थक्षेत्रों के प्रमुख पदाधिकारी तथा विभिन्न प्रान्तों के पदाधिकारीगण सम्मिलित हुए और तीर्थों के संरक्षण, संवर्द्धन पर विचार रखे तथा भारतवर्षीय दिगम्बर जैन तीर्थ क्षेत्र कमेटी के नव निर्वाचित राष्ट्रीय अध्यक्ष समाज श्रेष्ठि जम्बुप्रसाद जी जैन गाजियाबाद, महामंत्री संतोष जी पेंडारी सहित सभी पदाधिकारियों का भावभीना सम्मान किया गया। आयोजन श्री जवाहरलाल जैन अध्यक्ष उत्तर प्रदेश उत्तराखंड तीर्थक्षेत्र कमेटी के कुशल संयोजन में किया गया।
इस मौके पर तीर्थक्षेत्रों के संरक्षण व संवर्द्धन पर मंथन किया गया।  तीर्थ क्षेत्रों का विकास एवं प्राचीनता, संरक्षण, संवर्द्धन, ज्वलंत समस्याओं पर अनेक वक्ताओं ने अपने विचार रखे।
राष्ट्रीय अध्यक्ष जम्बुप्रसाद गाजियाबाद ने कहा कि तीर्थक्षेत्र  हमारी ऐतिहासिक और सांस्कृतिक पहचान हैं।  तीर्थक्षेत्र हमारी आस्था, श्रद्धा के केन्द्रबिन्दु हैं। मूर्तियां, तीर्थ क्षेत्र एवं वास्तुकला के विशिष्ट प्रतिमान हैं। इनके संरक्षण के लिए सभी को आगे आना चाहिए। सभी तीर्थ तीर्थक्षेत्र कमेटी से जुड़ें।
महामंत्री संतोष पेंडारी ने सम्मेदशिखर जी, केशरिया जी, अंतरिक्ष पार्श्वनाथ आदि तीर्थों के चल रहे केसों की अद्यतन जानकारी साझा की।
उत्तर प्रदेश उत्तरांचल कमेटी के अध्यक्ष जवाहर लाल जैन ने कहा कि प्राचीन तीर्थ, मंदिर मूर्तियां हमारी अनमोल धरोहर हैं। तीर्थक्षेत्र कमेटी तीर्थों के संरक्षण संवर्द्धन के लिए संकल्पित है।
अधिवेशन में वक्ताओं ने तीर्थों पर संतों के चातुर्मास, तीर्थों का सर्वेक्षण, अच्छी व्यवस्था, प्रत्येक मंदिर तीर्थों पर सीसीटीवी कैमरे, आंचलिक कमेटियों की सक्रियता और आंचलिक कमेटियों को बजट का प्रावधान आदि अनेक सुझाव दिए गए।
*कार्यकारणी का विस्तार* :  इस मौके पर राष्ट्रीय कार्यकारिणी के विस्तार की घोषणा की गई जिसमें उपाध्यक्ष पद पर समाज श्रेष्ठि प्रदीप जैन पीएनसी आगरा, श्री सुरेश जैन कुलाधिपति मुरादाबाद, श्री विजय कुमार जैन अहमदाबाद, श्रीमती नीलम जैन अजमेरा, श्री संजय जैन पापड़ीवाल औरंगाबाद, महामंत्री श्री  संतोष जैन पेंडारी नागपुर,  कोषाध्यक्ष श्री  अशोक दोसी मुंबई तथा मंत्री  श्री हसमुख गांधी इंदौर, डॉ जीवन प्रकाश जैन हस्तिनापुर, श्रीबजयकुमार जैन कोठारी लखनऊ, श्री वीरेश जैन जबलपुर  को बनाया गया। सभी नवीन पदाधिकारियों का सम्मान किया गया।
बैठक का संचालन महामंत्री संतोष पेंडारी ने किया।
इस मौके पर उत्तर प्रदेश -उत्तराखण्ड तीर्थ क्षेत्रों के परिचय की स्मारिका विमोचन किया गया। राष्ट्रीय अध्यक्ष जम्बुप्रसाद जी गाजियाबाद की ‘मेरा स्वप्न : तीर्थक्षेत्रों का विकास’ पुस्तक सभी को दी गयी जिसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष ने तीर्थक्षेत्रों के प्रति अपने विजन का उल्लेख विस्तार से किया है। तीर्थक्षेत्र कमेटी का आय-व्यय प्रस्तुत किया गया जिसमें बताया गया कि कमेटी  46 लाख रुपये घाटे में है।
इस दौरान अनेक तीर्थक्षेत्रों के पदाधिकारीगण बड़ी संख्या में मौजूद रहे।
– : डॉ. सुनील जैन संचय
मंत्री -उत्तरप्रदेश-उत्तराखंड दिगम्बर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here