विश्व सरीसृप जागरूकता दिवस

0
26

विश्व सरीसृप जागरूकता दिवस—-विद्यावाचस्पति डॉक्टर अरविन्द प्रेमचंद जैन भोपाल
————————————————————————————————-
सांप ऐसा जीव है जिसके बारे में इंसानों के सबसे ज्यादा गलतफहमी होती है.दुनिया में वैसे तो बहुत से दिवस मनते हैं लेकिन कुछ दिवस अनोखे भी दिखते हैं पर शायद उतने अनोखे या रोचक नहीं दिखते हैं. ऐसे ही एक दिवस है विश्व नाग दिवस या विश्व सर्प दिवस . इस दिवस को दुनिया भर में लोगों को सांपों और उनके बारे में भ्रातिंया दूर कर उनके प्रति जागरुकता जगाने के लिए मनाया जाता है. सांप उन प्राणियों में से एक है जिसके बारे में दुनिया में शायद सबसे ज्यादा गलतफहमियां हैं. इस दिन को लोगों को सांपों की प्रजातियों के बारे में जानकारी देने के मौके के तौर पर भी मनाया जाता है.
भारत में पूज्यनीय
सांप जिन्हें सर्प या नाग भी कहा जाता है, भारत में देव तुल्य माना जाता है. उनकी पूजा तक की जाती है. लेकिन सांप के बारे में भारत सहित दुनिया में बहुत गलतफहमियां हैं. ये बहुत अहम जीव होते हैं और पर्यावरण के लिए बहुत अधिक अहमियत रखते है. लेकिन लोगों को इसको लेकर डर ज्यादा है और इसी जीव को लेकर बहुत सारी दंत कथाएं भी बनी हैं.
दुनिया के हर कोने में सांप
सांप दुनिया के सबसे पुराने जीवों में से एक माना जाता है. इसका दुनिया की लगभग हर सभ्यता में जिक्र मिल जाएगा. आज दुनिया में सांपों की करीब 3458 प्रजातियां हैं. उत्तरी कनाडा के बर्फीले टुंड्रा से लेकर अमेजन के हरे जंगलों और हर रेगिस्तान और महासागर में पाया जाता है. ये बहुत ही चुस्त शिकारी जीव होते हैं, लेकिन प्रकृति में संतुलन बनाने में अहम भूमिका निभाते हैं.
खेतों में सांप
कम लोग जानते हैं कि खेतों में सांप का पाया जाना एक अच्छा संकेत माना जाता है. सांप खेत में उन कीड़े मकोड़ों को खाते हैं जो फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं. इसके अलावा सांप चूहों को भी खाते हैं जो अनाज के बहुत ताकतवर दुश्मन माने जाते हैं और फसलें बर्बाद करने के लिए दुनिया भर में बदनाम हैं.
कौतूहल पैदा करते हैं ये
सांप बहुत कौतूहल पैदा करने वाला जीव है. वे देखने में और अपने विविधता में बहुत आकर्षक लगते हैं तो कई लोगों को बहुत डरावने. बहुत कम लोग जानते हैं है सांपों के पूर्वज डायनासोर के भी पूर्वज सरीसृप हैं. दुनिया में कम लेकिन फिर भी लोग सांप को पालतू जानवर की तरह पालते हैं. भारत में को इन्हें पालने वालों की जाति होती हैं.
आवास की जानकारी जरूरी
फिर भी सांप पालना आसान नहीं होता है इसके लिए इनके बारे में सही जानकारी होना बहुत जरूरी होता है जो बहुत की कम लोगों को पता होती है. सांपों के बारे में सबसे पहले यह जानना जरूरी है वे कहां रह सकते हैं उनके लिए सही आवास क्या होता है. जंगलों के विनाश के साथ सांपों की प्रजातियों के कम होने का भी खतरा बढ़ता जा रहा है. ये अंटार्कटिका के अलावा दुनिया के हर जंगल, हर समुद्र में पाए जाते हैं.
क्या होता है उनका भोजन
ये कीड़ों से लेकर चूहों और मेढकों को अपनी खुराक बनाते हैं. ये अपने शिकार को पूरा निगल लेते हैं क्योंकि इनका निचला जबड़ा ऊपरी जबड़े से अलग होता है. बड़े सर्प तो हिरण, सुअर, बंदर आदि तक निगल लेते हैं. उनकी सुरक्षा तकनीक बहुत ही शानदार होती है. कई सांपों के फन में जहर होता है जिसके डसने से इंसान तक की मौत हो जाती है. लेकिन वे अपने दांतों से काट कर जीव के शरीर में जहर डालते हैं जब वे खुद खतरा महसूस करते हैं.
आमतौर पर भारत जैसे देश में सांपों का बहुत डर होता है. इस डर से कि कहीं वे काट ना लें, उन्हें मार भी दिया जाता है. लेकिन जागरुकता के साथ स्थिति बदल रही है. सांपों से केवल सावधान होने की जरूरत है. साथ ही यह भी जानना जरूरी है कि अगर जहरीला सांप काट ले तो क्या करना चाहिए. प्राथमिक उपचार में जहां सांप ने कांटा है (अगर वह हाथ या पैर हो तो) को कस कर (लेकिन बहुत ही ज्यादा कस कर नहीं) बांध दें. पीड़ित को तुरंत अस्पताल ले जाएं और एंटीवेमन इंजेक्शन लगवाएं.
विद्यावाचस्पति डॉक्टर अरविन्द प्रेमचंद जैन संरक्षक शाकाहार परिषद् A2 /104 पेसिफिक ब्लू ,नियर डी मार्ट, होशंगाबाद रोड भोपाल 462026 मोबाइल ०९४२५००६७५३

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here