विश्व आवास या पर्यावास दिवस —विद्यावाचस्पति डॉक्टर अरविन्द प्रेमचंद जैन भोपाल

0
82

वर्तमान में मानव को रोटी कपडा और मकान की लड़ाई बहुत अधिक हैं। आज बेरोजगारी ,महंगाई के कारण ये सब कष्टकारी हो रहे हैं। आज जितनी महगाई उतने घरों का निर्माण हो रहा हैं पर घटिया सामग्री निर्माण में लगाया जाता हैं और भवन निर्माता समय में घर बनाकर नहीं देते हैं। आज जमीन की कमी होने के कारण गगनचुम्बी भवनों का निर्माण बहुत तेज़ी से बन रहे हैं।
प्रत्येक वर्ष अक्टूबर के पहले सोमवार को मनाया जाने वाला विश्व पर्यावास दिवस, शहरों और मानव बस्तियों में परिवर्तनकारी बदलाव लाने की दिशा में UN-Habitat के मिशन का समर्थन करता है। इस साल 2023 में विश्व आवास दिवस सोमवार, 02 अक्टूबर को मनाया जा रहा है।
इतिहास
शहरीकरण को प्राचीन मेसोपोटामिया (जिसे अब इराक कहा जाता है) में वापस खोजा जा सकता है। इस काल में दो नगरों का विकास हुआ, उरुक और उर, जो उस समय परात नदी के तट के निकट स्थित थे।
इतिहासकार भी शहरी क्षेत्रों के उदय का श्रेय मिस्र, भारत और चीन जैसी जगहों की नदी घाटी सभ्यताओं को देते हैं। ये स्थान शुरू में कृषि और घरेलू मवेशियों पर निर्भर थे लेकिन जल्द ही व्यापारिक केंद्रों और व्यापारिक केंद्रों में फैल गए।
आंकड़े बताते है कि शहरीकरण प्राचीन मेसोपोटामिया से मिस्र तक और वहां से प्राचीन ग्रीस तक फैल गया। जबकि मेसोपोटामिया के शहर अंततः फीके पड़ गए, हम केवल भीड़भाड़, प्राकृतिक संसाधनों के अति प्रयोग आदि जैसे कारणों का अनुमान लगा सकते हैं। बाद की प्राचीन सभ्यताओं ने शहरीकरण के कम वांछनीय परिणामों को रोकने के लिए ध्यान रखा, खासकर मिस्र में।
लगभग 200 साल पहले शहरी क्षेत्रों का विकास काफी हद तक तेज हो गया था क्योंकि लोग नौकरियों की तलाश में गए थे, जो निश्चित रूप से ज्यादातर शहरों में थे जहां कारखाने थे। पिछले 50 वर्षों में, शहरीकरण ने तेजी से विकास देखा है। दुनिया भर के शहरी क्षेत्रों में बड़ी संख्या में लोग रहते हैं और इस शहरीकरण का अधिकांश हिस्सा एशिया, अफ्रीका और लैटिन अमेरिका में हो रहा है।
आज, दुनिया भर के देशों में एक ही पैटर्न दिखते हैं, जहां लोग आजीविका और अधिक समृद्ध जीवन स्तर की तलाश में शहरी क्षेत्रों में आने लगे। आज आर्थिक केंद्रों के रूप में कार्य करते हुए, शहर लगातार बढ़ रहे हैं, लेकिन कभी-कभी, योजना और पर्याप्त संसाधनों की कमी बड़ी समस्याएं पैदा करती है। ऐसी परिस्थिति में, कई शहरी निवासियों के लिए पर्याप्त आवास नहीं होता है।
इस समस्या का समाधान करने के लिए, 1985 में, संयुक्त राष्ट्र ने प्रत्येक वर्ष अक्टूबर के पहले सोमवार को विश्व पर्यावास दिवस मनाने के लिए एक प्रस्ताव रखा और पारित किया। कई देश इस दिन को मनाते हैं, वैश्विक और राष्ट्रीय संगठनों के साथ साझेदारी करके यह जांच करते हैं कि शहरीकरण लोगों के लिए आवास को कैसे प्रभावित करता है और यह पर्यावरण को किस तरह प्रभावित करता है।
चार साल बाद, संयुक्त राष्ट्र शहरी विकास एजेंसी, जिसे संयुक्त राष्ट्र मानव निपटान कार्यक्रम (यूएन-हैबिटेट) कहा जाता है, ने उन पहलों के लिए एक विशेष पुरस्कार शुरू किया, जिन्होंने लोगों के लिए आवास के निर्माण और जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने में उत्कृष्ट योगदान दिया है। यह पुरस्कार – जो विजेता के नाम और उनकी उपलब्धि के साथ उत्कीर्ण एक पट्टिका है, विश्व पर्यावास दिवस के वैश्विक पालन के दौरान प्रस्तुत किया जाता है।
उद्देश्य
दुनियाभर में आम लोगों के लिए सस्ता, सुरक्षित, किफायती, और सभ्य आश्रयों की आवश्यकता को उजागर ही विश्व आवास दिवस का मुख्य उद्देश्य है।इसके साथ ही बेघर होने की परेशानियों और तेजी से बढ़ते शहरीकरण के मुद्दों को देखते हुए पर्याप्त आश्रय, अच्छी शिक्षा, स्वास्थ्य, पानी, स्वच्छता, नौकरी की संभावनाओं अन्य बुनियादी सेवाओं, आदि को उपलब्ध कराने की योजना बनाना इसका मक़सद है।
आवास का महत्व
आवास किसी भी प्राणी की मूल आवश्यकता होती है, और इस मूल आवश्यकता के महत्व को समझाने के लिए ही हर साल यह दिवस (वर्ल्ड हैबिटेट डे) मनाया जाता है।
एक सर्वे के अनुसार, दुनिया भर में 1.6 अरब लोग घटिया आवास में रह रहे हैं और लगभग 100 मिलियन लोग बेघर हैं। यह दर्शाता है कि इस समय कुछ गंभीर कार्यवाही करना कितना जरूरी है अगर ऐसा नही किया गया तो आने वाले समय में दुनिया भर में झोपड़पट्टी में रहने वाले निवासियों की संख्या में बढोतरी होगी।
इस साल विश्व पर्यावास दिवस 2023 की थीम “लचीली शहरी अर्थव्यवस्थाएँ. शहर विकास और पुनर्प्राप्ति के चालक के रूप में” है। हर वर्ष आवास दिवस एक ख़ास विषय के साथ मनाया जाता है,
विश्व आवास दिवस का मेजबान देश
विश्व पर्यावास दिवस 2023 का ग्लोबल ऑब्जरवेशन 02 अक्टूबर को मेजबान देश ‘बाकू, अज़रबैजान‘ में किया जा रहा है।
विद्यावाचस्पति डॉक्टर अरविन्द प्रेमचंद जैन, संरक्षक शाकाहार परिषद् A2 /104 पेसिफिक ब्लू ,नियर डी मार्ट, होशंगाबाद रोड भोपाल 462026 मोबाइल ०९४२५००६७५३

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here