ननद-भाभी की पीएचडी संपन्न, दो भाईयों की पीएचडी जारी

मारौरा परिवार के चार सदस्य पीएचडी होंगे

0
127

इन्दौर – भारतवर्ष की दिगम्बर जैन समाज में पं.सुरेश जैन मारौरा एक सुपरिचित नाम है । आर्यिका विशुद्धमति माताजी एवं आर्यिका विनतमति माताजी आपके गृहस्थाश्रम की नजदीकी रिश्तेदार है । पूरे परिवार को श्रावकोचित संस्कार विरासत में प्राप्त हुए जिन्हें स्व.नीरजजी निर्मलजी सतना ने अपने साहित्यजल से समृद्ध किया । पं.सुरेशजी मारौरा की सुपुत्री बाल ब्रह्मचारिणी बहन समता जैन व पुत्र वधु श्रीमती अल्पना जैन ने तीर्थंकर महावीर विष्वविद्यालय मुरादाबाद (उ.प्र.) से एक साथ पीएचडी की उपाधि प्राप्त कर जैन साहित्य को गौरवान्वित किया है ।

दोनों श्राविकाएं रिश्ते में ननद-भाभी का रिष्ता रखती है व दोनों को धार्मिक संस्कार विरासत में प्राप्त हुए है। श्रुत सिद्धांत शोधपीठ इन्दौर के माध्यम से पूज्य मुनिश्री अभयसागरजी महाराज ऐलक श्री सिद्धांतसागरजी महाराज के आषीर्वाद व मार्गदर्षन में वरिष्ठ विद्वत रत्न डॉ.शाीतलचंद जैन जयपुर एवं डॉ.फूलचंद ‘प्रेमी’ वाराणसी के निर्देषन में शोधकार्य करने वाली ब्रह्मचारिणी समता दीदी एम.एस.सी. (भौतिकी), एम.ए. हिन्दी, संस्कृत, प्राकृत भाषा में किया हुआ है ।
उन्होंने ‘जैन वाड्मय में परमाणु सिद्धांत और आधुनिक विज्ञान एक अध्ययन विषय में शोध करने के दौरान दिगम्बर-ष्वेताम्बर साहित्य के संस्कृत, प्राकृत, हिन्दी में लिखे 150 से अधिक ग्रंथों का अध्ययन कर अपने शोध को 850 पृष्ठों में समाहित किया है ।

श्रीमती अल्पना जैन अपने गृहकार्य में व्यस्त रहने के साथ निरंतर अध्ययनषील है, उन्होंने अपना शोध ‘आर्यिका विषुद्धमति की टीकाओं का अनुषीलन एवं योगदान’ विषय पर पूज्य माताजी के समग्र साहित्य का अध्ययन व तिलोयपण्णति, त्रिलोकसार आदि ग्रंथों का अध्ययन कर अपना महत्वपूर्ण शोध आलेख प्रस्तुत किया है ।

ननद-भाभी अब ब्र.डॉ.समता जैन मारौरा व श्रीमती डॉ.अल्पना जैन के नाम से जानी जायेगी । पं.सुरेषजी-सुषीलाजी के पुत्रद्वय सुबोध-सुजष मारौरा क्रमषः ‘भारतीय संस्कृति में जैन पत्र-पत्रकाओं एवं जैन पत्रकारों का योगदान एवं प्रभाव व मुनि क्षमासागर के साहित्य का समीक्षात्मक अध्ययन विषय पर शोध कार्य कर रहे है ।

एक ही परिवार के युवा सदस्य अपने संस्कारों के साथ जैन दर्षन विषय पर अपना शोध कर एक अनुकरणीय उदाहरण प्रस्तुत कर रहे है । मारौरा परिवार द्वारा किये जा रहे उक्त कार्यों की प्रषंसा करते हुए अनेक स्नेहीजनों ने बधाई एवं शुभकामनाएं दी है ।

राजेन्द्र जैन महावीर
217, सोलंकी कालोनी, सनावद 451111
जिला खरगोन (म.प्र.)
मो.नं. 9407492577

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here