संस्कार, संस्कृति व शिक्षा का अनुपम केन्द्र है – “विमर्श कैम्प

0
153

भावलिंगी संत की जन्मभूमि पर बा.ब्र. विशु दीदी के निर्देशन में प्रारंभ हुआ विमर्श कैम्प

बुन्देल खण्ड की धर्मनगरी अतिशय क्षेत्र जतारा जी, ‘जीवन है पानी की बूंद’ महाकाव्य के मूल रचियता परमपूज्य भावलिंगी संत ‘आचार्य श्री 108 विमर्श सागर जी महामुनिराज के जन्म से “पावन व पवित्रता” को प्राप्त हुई है । सन् 2023 में जन्मभूमि का महासौभाग्य जागा, जो अपनी ही माटी में जन्मे “महान आचार्य प्रवर श्री विमर्शसागर जी” महाराज का चातुर्मास कराने का परम सौभाग्य प्राप्त हुआ। प्रतिदिन देशभर से भक्तों का समुदाय जन्मभूमि पर अपने गुरूवर एवं “अतिशयकारी भोयरे जी के बड़े बाबा भगवान आदिनाथ स्वामी” का महान दुर्लभ दर्शन प्राप्तकर अपने जन्म व जीवन को सफल कर रहे हैं।
“स्वर्णिम जन्मभूमि जतारा चातुर्मास 2023″ के चलते धार्मिक आयोजनों की श्रृंखला में मधुर व मनोहारी – आकर्षक आयोजन के रूप में प्रारंभ हुआ संस्कार- संस्कृति – अनुशासन की त्रिवेणीरूप ” विमर्श कैम्प “। ‘विमर्श कैम्प’ एक ऐसा सफल व श्रेष्ठ आयोजन है जो नींव (जड़) को मजबूत बनाता है अर्थात् इसमें समाज व देश का भविष्य, ऐसे नन्हे-मुन्ने बच्चों को संस्कार, अनुशासन, विनय, भक्ति, स्व-पर उपकार की भावना, स्वावलम्बन, प्रेम-मैत्री- एकता की भावना और खेल कूद की अनेकों गतिविधियों से जोड़ा जाता है। 5 वर्ष से 15 वर्ष तक के बच्चों का संस्कार केन्द्र ‘विमर्श कैम्प’ में अनेक बालक-बालिकाओं ने भाग लिया।
परम पूज्य नगर गौरव आचार्य श्री विमर्शसागरजी मुनिराज के विशाल संघ रूपी बाग के महकते पुष्प का नाम है “बाल ब्रह्मचारिणी विशु दीदी ” जिनके निर्देशन, नेतृत्व व वात्सल्यमयी आँचल में सैकड़ों बच्चे संस्कार एवं शिक्षा प्राप्त कर अपने भविष्य को उज्ज्वल श्रेष्ठ बनाते हैं। बच्चों को पढ़ाते हुए वे सुयोग्य शिक्षिका बन जाती हैं, कभी बहन तो कभी माँ की तरह अपने कर्तव्य का निर्वाह करती हैं, कभी सहपाठी मित्र तो कभी गुरु की भाँति अपनी शिष्य मण्डली के बीच नजर आती हैं, सच कहा जाए तो सर्व गुण सम्पन्न अनूठे व अद्भुत व्यक्तित्व की साक्षात मूर्ति हैं” “बाल ब्रह्मचारिणी विशु दीदी”। ज्ञातव्य हो, सन् 2015 में सिद्धक्षेत्र अहारजी में पूज्य आचार्य श्री के अतिशयकारी आशीर्वाद एवं अपनी अकंप श्रद्धा का श्रेष्ठ उदाहरण प्रस्तुत किया था ब्रा.ब्र. विशु दीदी ने ।
भारतीय जैन संगठन तहसील अध्यक्ष एवं जैन समाज उपाध्यक्ष अशोक कुमार जैन ने बताया कि 1 सितम्बर 2023, शुक्रवार की संध्याबेला में आचार्यश्री के मंगल आशीर्वाद एवं सानिध्य में प्रारंभ हुआ “विमर्श कैंप “।
विमर्श कैंप के मांगलिक शुभारंभ के पावन अवसर पर जैन समाज अध्यक्ष महेंद्र जैन, राजीव मांची, सुनील बंसल,राजीव मोदी, मुकेश जैन, राजेश जैन, अनुज भंडारी,एवं संपूर्ण जतारा जैन समाज के साथ अनेक स्थानों से गुरुभक्तों ने उपस्थित रहकर आयोजन को सफल बनाया एवं अपना सौभाग्य वर्धन किया! आज से प्रतिदिन “विमर्श कैंप” में नगर के नन्हे-मुन्ने पहुँचकर अपने ज्ञान व संस्कारों को वृद्धिंगत करेंगे !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here