सम्यक ज्ञान,सम्यक चारित्र, सम्यक दर्शन रूपी दीपक से हमेशा जीवन में उजाला बना रहेगा

0
61

राजस्थान की धर्म परायण नगरी टोंक में श्री श्री 1008 भगवान महावीर स्वामी का 2550 वा निर्वाण महोत्सव श्री दिगंबर जैन नसिया अमीरगंज टोंक में आर्यिका105 सूत्रमति माताजी के ससंघ सानिध्य में बड़े हर्ष और उल्लास के साथ रविवार को प्रातःकाल मनाया गया, कार्यक्रम में समाज के प्रवक्ता पवन कंटान और कमल सर्राफ ने बताया कि भगवान महावीर स्वामी के निर्वाण महोत्सव के उपलक्ष में रविवार को प्रातःकाल जैन नसिया में अभिषेक,शांतिधारा के पश्चात भगवान महावीर स्वामी की विशेष पूजा अर्चना की गई तत्पश्चात आचार्य सुनील सागर जी महाराज की पूजा की गई तत्पश्चात श्रद्धालुओं द्वारा निर्वाण कांड भाषा का वाचन कर सामूहिक रूप से महावीर स्वामी का 2550 वां निर्वाणोंत्सव का लाडू चढ़ाया गया इससे पूर्व जैन नसिया में प्रातकाल की बेला में 5:30 बजे 2550 वा निर्वाण महोत्सव के साथ 2550 दीपकों की रोशनी से जगमगा उठा इस मौके पर आर्यिका सूत्रमति माताजी ने अपने मंगल में आशीर्वाद से उद्बोधन करते हुए कहा कि अपने दीपावली के मौके पर अपने घरों की सफाई कर ली लेकिन अपने अंदर की सफाई आत्मा रूपी सफाई जरूरी है मिट्टी के दिए से एक बार उजाला होता है और बाद में फिर अंधेरा हो जाता है लेकिन भीतर के दीपक सम्यक ज्ञान, सम्यक चरित्र, सम्यक दर्शन रूपी दीपक से हमेशा जीवन में उजाला बना रहेगा दीपावली के इस पावन मौके पर आर्यिका 105 सूत्रमति माताजी ने दोनों हाथों से सभी श्रद्धालुओं को मंगलमय आशीर्वाद दिया इस मौके पर समाज के अध्यक्ष भागचंद फुलेता ,मंत्री राजेश सर्राफ, ओम आड़रा, पप्पू नमक, अमित दाखियां, कमल आड़रा, ओम मोहम्मदगढ़, ओम ककोड़, नीटू छामुनिया, प्रदीप सर्राफ, अंकित बिलासपुरिया, आयुष फुलेता, अशोक श्यामपुरा, आदिश गंगवाल, राजेश बोरदा आदि समाज के काफी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here