जूता पहनने से वजन बढ़ता हैं और खाने से घटता हैं !

0
41

अस्पताल में मरीज़ ही आते हैं और कभी कभी मरीज़ के साथ उसके नाते रिश्तेदार आते हैं ,अस्पताल में वजन नापने की मशीन रहती हैं . ठण्ड के दिन थे मरीज़ के साथ एक सूटेड बूटेड लड़का भी आया ,मरीज़ का बजन नपने के बाद उस नवयुवक ने भी मशीन का उपयोग कर अपना वजन नापा और कहा डॉक्टर मेरा वजन सत्तर किलो हैं इसमें मेरा शूट और जूते का वजन तो एक किलो होगा .इसका मतलब मेरा वजन एक किलो कम यानि 69 किलो होना चाहिए. डॉक्टर हमेशा मरीज़ों से घिरा रहने से गंभीर रहते हैं पर वे मरीज़ों के माध्यम से अपना मन हल्का करते हैं तो उस नवयुवक से मजाक में बोले है जूते पहनने से वजन बढ़ता हैं और खाने से घटता हैं !
कुछ ऐसे कवि/लेखक /चिंतक /वैज्ञानिक हुए है जिनकी अजीबोगरीब आदतें रही हैं जैसे कोई पिटने के बाद कवितायेँ लिखता हैं,कोई छेड़खानी के बाद तो कोई शराब पीकर तो कोई नाली में गिरकर ,कोई प्रेमिका से दुत्कार खाकर और कोई भूखा रहकर .हमारे देश में वर्तमान में सरकार ने कहा हैं की न हम खाएंगे और न खाने देंगें .जब किसी को खाने नहीं मिलेगा तो शौचालय का क्या उपयोग .कहावत हैं जब आप पाखाना बनवाने में पैसा खरच कर दोगे तो जाओगे कैसे .बिना खाये पिए. आजकल इस लिए सरकार अन्न फल सब्जी खाने नहीं दे रही कारण किसान को पूरा पैसा नहीं मिल रहा और जनता यानि खरीददार खरीदी नहीं कर पा रहा और सरकार ने खाने को मना किया हैं .हमारे प्रधान मंत्री को कोई चिंता नहीं हैं इसी की चिंता सताती है .
हमारे वित्त मंत्री को पित्तज रोग हो गया हैं और पहले दिल का ऑपरेशन करा चुके हैं तो वे अभी हृदयहीन हो गए और पित्तज रोग होने से जैसे सावन के अंधे को सब हरा हरा दीखता हैं वैसे उनको भी दीखता हैं .या तो उनका चश्मे का नंबर बदल गया या वे जब जिस बात को कहना चाहते हैं वैसा चश्मा पहन लेते हैं .रामचंद्र जी लंका विजय के बाद अयोध्या आये तब एक दिन सब लोग बैठ कर युध्य और वनवास की चर्चा कर रहे थे तो हनुमान जी बोले की जब मै लंका गया तो अशोक वाटिका में सीता मैय्या लाल रंग की साड़ी पहनने बैठी थी और अशोक के वृक्ष में लाल रंग के फूल खिले थे तो रामचंद्र जी बीच में टोककर हनुमान सीता सफ़ेद साड़ी पहनी थी और अशोक के फूल सफ़ेद होते हैं .कारण उस समय तुम गुस्से में थे इसीलिए तुम्हे हर चीज़ लाल दिखाई दे रही थी.
कल धर्मेंद्र प्रधान केंद्रीय मंत्री ने सही कहा की नया जूता तीन दिन काटता हैं और फिर ठीक लगने लगता हैं .मंत्री लोग तो चमड़े का जूता तो नहीं पहनते और न पसंद करते ,हां खाना पसंद करते हैं चांदी सोना का जूता .कारण ये ऐसे जूते हैं इनकी और किसी का ध्यान नहीं जाता कारण गरीब को चप्पल नसीब नहीं होती ,माध्यम वर्ग कपडे के जूते पहनते ,अमीर लोग चमड़े के और नेता चांदी या सोने के .और मंत्री जी तो सोते समय भी सोने के जूते पहनते हैं कारण बेचारों को देश की चिंता में अपने विभाग की चिंता में और अपने विकास की चिंता में नींद न आने से उन्हें सोना नहीं मिलता तो वे सोना चांदी की चिंता में नहीं सोते. वैसे हमारे देश में पायल बिछिया सोने की पहनने का चलन बहुत कम हैं कहा जाता हैं की पैरों में सोना नहीं पहना जाता हैं पर हमारे मंत्री जी सोने में सोना का जूता पहनते हैं तो शायद वो न काटता हो कारण उनको सचिव ,सेवक के माध्यम से चांदी सोने के जूते मिल जाते हैं .इन जूते के साथ यह दुःख हैं की ये बहु उपयोगी होते हैं पर उपयोगी नहीं होते जितने चमड़े के होते हैं .
आजकल पंप शू पहनने का चलन बढ़ गया हैं .कौन बंध बांधे और कसे.बिना बंध वाले जूते पहनने में सरल और पहनाने में सरल . मंत्री जी ने जी एस टी के बारे में कहा हैं यानि लक्ष्मी यानि पैसों के बारे में .मंत्री जी के पास लक्ष्मी जी अपने आप आती हैं इसलिए उन्होंने पेट्रोल आदि को जी एस .टी से छूट ले रखी हैं ताकि नित्य और प्रत्येक माह उनको सुनियोजित ढंग से सोने के जूते मिल जाते हैं इसलिए उनके कभी तीन दिन नहीं होते.उनकी तो सातो वार /तीसों दिन चांदी ही चांदी हैं .
मंत्री जी कभी आपने खुद के पैसों से पेट्रोल डलवाया हैं .सब फ्री का मिलता हैं तो जनता का कष्ट कैसे जानोंगे .आपको क्या पता जूता तीन दिन के बाद काटना छोड़ देता हैं ? क्योंकि जब से आप मंत्री बने हैं तो आपको को तो सोने की चमच्च से खाने की आदत हो गयी. जिससे वजन बढ़ता ही हैं .हां चमड़े के जूते पहनने से वजन बढ़ता हैं और खाने से घटता हैं .चमड़े के जूते पहनने वालों की चिंता करे .सिर्फ आंकड़ों से कुछ नहीं होता .कभी कभी अपने पैसों से भी पेट्रोल डलवाया करो ,कभी बाजार घूमो चमड़े के जूते नए पहना कर . तब पता चलता हैं की जूता खरीदना कितना महंगा हैं . काटने का सुख कैसा होता हैं !
नंगे पाँव कांटे न लगे इसलिए पहले कपडा लपेटा जाता था
फिर राजा के लिए ही चमड़े के जूते बने और पहने अच्छा लगा
जब से राजा मंत्री संत्री को जूते मिले चांदी सोने के
तब से मिले जनता ,गरीब को चमड़े के
जनता उतरन पहनने की आदी हैं
अब तो ब्रांडेड सिर्फ अमीर ही पहनते हैं
वे भी क्या कम हैं चांदी से
खाने की अपेक्षा पहनने में फायदा हैं .
विद्यावाचस्पतिडॉक्टर अरविन्द प्रेमचंद जैन शाकाहार परिषद् भोपाल 09425006753

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here