जीवन जीने की कला को प्रदान करने वाला है समयसारोपासक साधना संस्कार शिविर : मुनि श्री सुप्रभसागर

0
143

विदिशा। परम पूज्य आचार्य श्री विशुद्ध सागर जी महाराज के सुयोग्य शिष्य प . पू . मुनि श्री सुप्रभसागर जी महाराज ससंघ के सानिध्य में 31 अगस्त से 09 सितम्बर तक दसलक्षण महापर्व के अवसर पर विदिशा की धरा पर समयसारोपासक साधना संस्कार शिविर आयोजित किया गया।जिसमें 400 से अधिक शिविराधियों ने सम्मिलित होकर साधना की। शिविर भव्य शोभायात्रा के साथ समापन को प्राप्त हुआ ।

इस अवसर पर मुनि श्री सुप्रभसागर जी महाराज ने कहा कि जीवन जीने की कला को प्रदान करने वाला है यह समयसारोपासक साधना संस्कार शिविर। आत्मा को जोड़ने का नाम है पर्वराज पर्युषण।

पांच राज्यों के शिविरार्थी हुए सम्मिलित :

प्रतिदिन प्रातः 4.30 से रात्रि 09 बजे तक शिविरार्थियों ने समय की उपासना की। शिविर में उ.प्र . , म.प्र . , महाराष्ट्र , कर्नाटक एवं छत्तीसगढ़ आदि पांच राज्यों के श्रावक शामिल हुए शिविर में । यह शिविर तप , ज्ञान , ध्यान , उपासना , योग आदि क्रियाओं से समन्वित रहा यह शिविर ।

शिविर के मेधावी हुए सम्मानित :

शिविर के समापन के अवसर पर शिविरार्थियों की परीक्षा भी सम्पन्न हुई जिसमें डा . यश सिंघई विदिशा , नमन जैन , सागर ( म.प्र . ) , राजेश जैन नाशिक ( महा . ) ने पुरुष शिविरार्थियों में क्रमश : प्रथम, द्वितीय, तृतीय स्थान प्राप्त किये एवं महिला शिविरार्थियों में सीनू जैन बानपुर, श्रीमती रजनी जैन , सागर ,श्रीमती ज्योति जैन विदिशा में ने प्रथम , द्वितीय , तृतीय स्थान प्राप्त किया तो शुभि जैन न्यूटन ( छिंदवाड़ा ) एवं प्रज्जवल जैन ( ककमकर ) वाशिम ( महा . ) को सर्वोत्कृष्ट शिविरार्थी का पुरस्कार प्राप्त हुआ ।

दस उपवास की साधना :

आकाश जैन रानीपुर , नमन जैन विदिशा, श्रेणिक जैन सागर ( म.प्र . ) , साझी जैन देवल , श्री मती ज्योति जैन लिएटन , श्रीमती मधु जैन , अर्पिता जैन , कविता जैन बक्सवाहा , श्रीमती श्रेया जैन तुमसर ( महा . ) , सुभि जैन , परासिया ने दस – दस उपवास किये एवं बीस शिविराधियों ने 9 से 05 उपवास तक की साधना प . पू . मुनिश्री ससंघ के सानिध्य में की ।
यह जानकारी सकल दि . जैन समाज के अध्यक्ष चौधरी . शैलेन्द्र जैन ( बडू ) एवं प्रदीप जैन LIC महामंत्री ने संयुक्त रूप से दी ।

शिविर में ब्रह्मचारी साकेत भैया जी के साथ – साथ पं . मुकेश जैन शास्त्री गुड़गांव एवं प्राचार्य प्रो . पं . महेन्द्र जैन विदिशा का विशेष निर्देशन प्राप्त हुआ । आवास व्यवस्था में मुनि सेवक संघ विदिशा , शुद्ध भोजन व्यवस्था गुरुवर जैन मिलन विदिशा , यातायात व्यवस्था में दीपक जैन R.T.0 का विशेष सहयोग रहा एवं वासुपूज्य सेवा मण्डल ने भी धर्म प्रभावना में महती भूमिका निभाई ।

मनाया गयी सामूहिक क्षमावाणी :

11 सितम्बर रविवार को मुनिश्री संसंघ के सानिध्य में सकल दि . जैन समाज समिति विदिशा के तत्वावधान में सामूहिक क्षमावाणी का आयोजन किया गया जिसमें श्रीजी की भव्य शोभायात्रा निकाली गई, श्रीजी के अभिषेक के उपरांत समस्त श्रावकों ने आपस में क्षमायाचना की ।

-डॉ सुनील जैन संचय

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here