इन लक्षणों को नज़र अंदाज़ न करे-विद्यावाचस्पति डॉक्टर अरविन्द प्रेमचंद जैन भोपाल

0
121

बचाव ही इलाज़ हैं .वर्तमान में आहार विहार जीवन शैली के कारण बहुत से रोग अनचाहे हमें देखने मिल रहे हैं .आज रेडीमेड खाना ,शराब ,सिगरेट बीड़ी ,मांसाहार के अलावा कुसंग के कारण कुछ घातक और सामान्य रोग हो रहे हैं .हम उन्हें  नज़रअंदाज़ कर देते हैं जो बहुत बड़ी मुसीबत बन जाती हैं और हम मुश्किल में पड़ जाते हैं .कैंसर एक ऐसा घातक रोग हैं इसमें समय बहुत महत्वपूर्ण होता हैं .लापरवाही हमारे जीवन को कष्टमय और दुखमय बना देती हैं .
कैंसर के लक्षणों की सही समय पर पहचान से बेहतर इलाज में मदद मिल सकती है, अगर आप लक्षणों को अनदेखा करते चले जाएंगे तो यह धीरे-धीरे बढ़ता रहेगा और जब तक आपको पता चलेगा तब तक बहुत देर हो चुकी होगी।
कैंसर गंभीर जानलेवा बीमारी है और इसे लेकर सबसे बड़ी समस्या यह है कि इसके कोई शुरुआती लक्षणों का पता नहीं चल पाता है। इसकी वजह यह है कि कैंसर के शुरुआती लक्षण अलग-अलग बीमारियों से मिलते-जुलते हैं। यही वजह है कि बहुत से लोग लक्षणों को नजरअंदाज कर देते हैं। दुर्भाग्यवश जब तक लक्षणों का पता चलता है, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है और कैंसर बड़ा यानी शरीर में फैल चुका होता है।
बेहतर और समय पर इलाज के लिए कैंसर के सभी लक्षणों की पहचान जरूरी है। जिन लक्षणों को आप नजरअंदाज कर देते हैं, वे आपके डॉक्टर के लिए सुराग हो सकते हैं। जब ट्यूमर छोटा होता है और फैलता नहीं है, तब इसका सही उपचार किया जा सकता है। कैंसर का पता लगाने के लिए समय-समय पर स्क्रीनिंग कराते रहना जरूरी है।
अगर आप हमेशा से कैंसर के छोटे-मोटे लक्षणों को नजरअंदाज करते हुए आए हैं या फिर आपने कभी स्क्रीनिंग नहीं कराई है, तो संभव है कैंसर धीरे-धीरे बड़ा बन सकता है। अगर आपके शरीर में पिछले दो या तीन हफ्ते से कुछ हलचल हो रही है, तो हो सकता है आपका कैंसर बड़ा हो गया यानी फैल गया है। ऐसे में आपको बिना देरी किए डॉक्टर से मिलना चाहिए।
मल में खून आना
अगर आपको पेशाब या मलत्याग के दौरान ब्लीडिंग हो रही है, तो आपको सतर्क हो जाना चाहिए। ऐसा सिर्फ बवासीर या यूटीआई की वजह से नहीं हो सकता बल्कि आपके मल में खून आना कोलन या रेक्टल कैंसर का लक्षण है। पेशाब के रास्ते में ट्यूमर बनने से पेशाब में खून आ सकता है।
खून की कमी या एनीमिया
शरीर में खून की कमी तब होती है, जब पर्याप्त लाल रक्त कोशिकाएं नहीं बनती हैं। यह आपके बोन-मेरो में बनती हैं। ल्यूकेमिया, लिम्फोमा और मल्टीपल मायलोमा जैसे कैंसर आपके मेरो को नुकसान पहुंचा सकते हैं। अन्य जगहों से वहां फैलने वाले ट्यूमर लाल रक्त कोशिकाओं को बाहर कर सकते हैं।
खांसी जो ठीक नहीं हो रही
खांसी कई बीमारियों का लक्षण है। अगर आपकी खांसी ठीक नहीं हो रही है और साथ में आपका आवाज में भी भारीपन बढ़ता जा रहा है, तो यह फेफड़ों के कैंसर का बड़ा लक्षण है। आवाज में किसी तरह का बदलाव या भारीपन आपके वॉयस बॉक्स या थायरॉयड ग्रंथि का कैंसर हो सकता है।
ऐसी थकान जो आराम के बाद भी नहीं जा रही
दिनभर कामकाज करने से किसी को थकान होना सामान्य बात है, हालांकि कई बीमारियों की वजह से भी थकान हो सकती है। अगर आप पर्याप्त नीद और आराम के बावजूद हमेशा थकान महसूस कर रहे हैं, तो यह संकेत है कि कहीं आपको ल्यूकेमिया यानी ब्लड कैंसर तो नहीं है। कोलन या पेट के कैंसर से खून की कमी हो सकती है, जिसकी वजह से भी आपको थकान हो सकती है।
स्तनों की बनावट में परिवर्तन
अगर आपके स्तनों के आकार में किसी तरह का बदलाव दिखने लगा है या फिर गांठ महसूस हो रही है, तो यह ब्रेस्ट कैंसर के बड़े होने का संकेत है। इनके अलावा आपको ब्रेस्ट के आसपास के हिस्से का रंग बदलना, निप्पल के आसपास परिवर्तन या असामान्य डिस्चार्ज जैसे लक्षण भी महसूस हो सकते हैं जोकि पहले नहीं थे।
निगलने में कठिनाई
अगर आपको ऐसा लगता है कि खाना आपके गले में फंस रहा है या आपको दो सप्ताह से अधिक समय तक निगलने में परेशानी हो रही है, तो यह गले, फेफड़े या पेट के कैंसर का संकेत हो सकता है।
इन लक्षणों को भी न करें नजरअंदाज
इनके अलावा आपको कैंसर के कुछ अन्य गंभीर लक्षण भी महसूस हो सकते हैं, जिनमें शामिल हैं-
कभी भी बुखार या इन्फेक्शन हो जाना जोकि ब्लड कैंसर का बड़ा लक्षण है
हमेशा सिरदर्द रहना जोकि दवाएं लेने के बावजूद दो हफ्ते से ज्यादा से बना हुआ है क्योंकि यह ब्रेन ट्यूमर का संकेत हो सकता है
हमेशा पेट फूला रहता है और भूख कम लगती है, यह हालत दो हफ्ते से ज्यादा से बनी हुई है क्योंकि यह पेट का कैंसर या गैस्ट्रिक कैंसर का बड़ा संकेत है।
बेवजह वजन कम होना शरीर में कैंसर के बढ़ने का एक बड़ा संकेत है, अगर आप हेल्दी डाइट ले रहे हैं और ऐसा हो रहा है, तो जल्दी से अस्पताल जाएं.
यह रोग समय निकलने के बाद गंभीरतम स्थिति में ला देता हैं .वर्तमान में यह लाइलाज रोग हैं .समझदारी जरुरी हैं .
विद्यावाचस्पति डॉक्टर अरविन्द प्रेमचंद जैन संरक्षक शाकाहार परिषद्  A2 /104 पेसिफिक ब्लू, नियर डी मार्ट, होशंगाबाद रोड, भोपाल 462026  मोबाइल 09425006753

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here