हम तब तक अच्छे हैं जब तक आपके मुताबिक है..! आचार्य श्री 108 प्रसन्न सागर जी महाराज

0
110
औरंगाबाद  उदगाव नरेंद्र /पियूष जैन भारत गौरव साधना महोदधि    सिंहनिष्कड़ित व्रत कर्ता अन्तर्मना आचार्य श्री 108 प्रसन्न सागर जी महाराज एवं सौम्यमूर्ति उपाध्याय 108 श्री पीयूष सागर जी महाराज ससंघ का महाराष्ट्र के ऊदगाव मे 2023 का ऐतिहासिक चौमासा   चल रहा है इस दौरान  भक्त को  प्रवचन  कहाँ की
हम तब तक अच्छे हैं जब तक आपके मुताबिक है..!
अच्छा होना, अच्छा दिखना और अच्छा बनना — तीनों में जमीन आसमान का अन्तर है। सभी अच्छा दिखना चाहते हैं, होना और बनना कोई भी नहीं चाहता। अच्छा जीवन जीने के लिये अच्छा बनना बहुत जरूरी है। अच्छा दिखने के लिये ब्यूटी पार्लर पर्याप्त है।जब हम अच्छा बनने के लिए प्रयास करते हैं तो हमारी शारीरिक – मानसिक क्षमतायें खुद को बेह्तर बनाने के लिए केन्द्रित हो जाती है।
जितना हम अपने आप को सुधारेंगे, उतना ही जीवन के सभी कार्यों को सफलतम तरीके से जी सकेंगे। एक बात हमेशा खुद के मन से कहते रहो — मैं अपने आपको और सुधारूंगा।
सफलतम जीवन जीने के लिये, अच्छा होने से ज्यादा अच्छा बनना बहुत जरूरी है।
अच्छा करने से पहले अच्छा बनना बहुत जरूरी है।
यदि हम स्वयं से अच्छा बनने की कोशिश शुरू करते हैं तो अच्छे तो आपोआप बन जायेंगे…!! नरेंद्र अजमेरा पियुष कासलीवाल औरंगाबाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here