चूलगिरी में बनेगी गणिनी आर्यिका गौरवमती माताजी की चरण छत्री, छत्री का हुआ शिलान्यास

0
109

– रविवार को सायं 7 बजे श्याम नगर आदिनाथ दिगम्बर जैन मंदिर में होगी विनयांजलि सभा

जयपुर। गणिनी आर्यिका सुपार्श्वमती माताजी की शिष्या गणिनी आर्यिका गौरवमती माताजी का गुरुवार को मध्यरात्रि में देवलोक गमन हो जाने के पश्चात शुक्रवार को प्रातः 10 बजे चूलगिरी स्थित राणाजी की नसियां में गणिनी आर्यिका गौरवमती माताजी के शरीर को जैन परंपराओं के अनुसार अंतिम क्रिया विधि सम्पन्न कर पंचतत्व में विलीन कर दिया गया था। शनिवार को प्रातः 6.15 बजे पंडित धर्मचंद शास्त्री (गुरुग्राम) के निर्देशन में ब्रह्मचारिणी किरण दीदी, मुन्नी बाई, विमला बाई, माताजी के घरस्थ अवस्था के परिवार सदस्य शरद जैन और अमित जैन (जबलपुर) सहित समाज सेवी राकेश सेठी (कलकत्ता), अशोक चूड़ीवाल (गुहावटी), अधिवक्ता हेमंत सौगानी, अनिल जैन धुंवा वाले, राजेन्द्र बड़जात्या, प्रवीण बड़जात्या, अजित पाटनी, कैलाश वैद, सर्वेश जैन, आशीष गोधा, मनोज पहाड़िया, धरणेन्द्र सेठी, प्रदीप चाँदवाड़ आदि की उपस्थिति जैन परंपराओं के अनुसार समाधि के बाद कि क्रिया विधि सम्पन्न कर फूलों को चुगा गया और कलश में एकत्रित कर समाधि स्थल पर शिला का निर्माण कर चरण छत्री की जयकारों के साथ नींव रखी गई।

अखिल भारतीय दिगम्बर जैन युवा एकता संघ अध्यक्ष अभिषेक जैन बिट्टू ने जानकारी देते हुए बताया कि शनिवार को प्रातः 6.15 बजे चूलगिरी में समाधि के बाद कि क्रिया विधि सम्पन्न होने के पश्चात प्रातः 8 बजे सभी श्रद्धालु भट्टराक जी की नसियां में एकत्रित हुए। इस दौरान श्रद्धालुओ ने विनयांजलि स्वरूप गणिनी आर्यिका गौरवमती माताजी को श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान अकेले जयपुर से ही नही बल्कि देशभर से श्रावक और श्राविकाएं शामिल हुए। रविवार को श्याम नगर स्थित गणिनी आर्यिका गौरवमती माताजी के चातुर्मास स्थल आदिनाथ दिगम्बर जैन मंदिर में सायं 7 बजे से विनयांजलि सभा का आयोजन किया जाएगा। साथ झोटवाड़ा स्थित मानसरोवर कॉलोनी के दिगम्बर जैन मंदिर में भी विनयांजलि सभा रखी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here