आत्मा को परमात्मा बनाने के लिए संसार में सबसे बड़ा धर्म है

0
58

आयिका रत्न गणिनी संगमती माताजी

महावीर कुमार सरावगी संवाददाता नैनवा जिला बूंदी
10 October 2023 सिद्ध क्षेत्र तारंग जी गुजरात आयिका रत्न संगममती माता ने धर्म सभा को संबोधित करते हुए बताया मनुष्य पर्याय का मिलना बड़ा ही मुश्किल है उसमें भी जैन कुल अच्छा धार्मिक परिवार यह भी जीव का बहुत बड़ा पुण्य होने पर ही ऐसा मिलता है
इस संसार में साधु संत का बनना इस पर्याय में सबसे बड़ा मुश्किल कठोर तप साधना है साधु निर्वाह करते हैं मनुष्य प्रयार्य से ही देव दर्शन भगवान की भक्ति साधु को आहार आदि सभी इस पर्याय में ही कर सकते हैं अन्य पर्याय में ऐसी कोई व्यवस्था ही नहीं है
जिस प्रकार होली के रंग के समान भक्ति के रंग में रंग जाना चाहिए यह मनुष्य पर्याय बड़ी मुश्किल से प्राप्त होती है इसी पर्याय से अपनी आत्मा को तपाकर धर्म साधना से मनुष्य स्वयं भगवान बन सकता है इतनी शक्ति इस पर्याय में आयिका ने बताया
माता ने यह भी बताया अमीर व गरीब दोनों में ज्ञान होता है घर पर बेटी वह बेटों में अंतर कभी मत रखना दोनों ही कुल की शोभा है पुत्र तीन लोग के स्वामी का अभिषेक करेगा बेटियां पूत्रिया साधु संतों का आहार बनाकर चौका लगाकर आहार कराएगी यही आयिका ने बहुत बड़ा पुण्य बताया
धर्म सभा में अपार भक्तों युवाओं महिलाओं ने आयिका माता की जय जयकार की

महावीर कुमार जैन सरावगी जैन गजट संवाददाता नैनवा जिला बूंदी राजस्थान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here