श्री विमलनाथ भगवान का गर्भ कल्याणक – विद्यावाचस्पति डॉक्टर अरविन्द प्रेमचंद जैन भोपाल

0
224

पश्चिम धातकीखंड द्वीप में मेरू पर्वत से पश्चिम की ओर सीता नदी के दक्षिण तट पर रम्यकावती नाम का एक देश है। उसके महानगर में पद्मसेन राजा राज्य करता था। किसी एक दिन राजा पद्मसेन ने प्रीतिंकर वन में स्वर्गगुप्त केवल एक से जुड़े धर्म का स्वरूप जाना और यह भी जाना कि ‘मैं तीसरा भव में तीर्थंकर हो जाऊंगा।’ उस समय उसने ऐसा उत्सव मनाया कि मैं तीर्थंकर ही हो गया हूँ। अनन्तर अनन्य भावनाओं द्वारा तीर्थंकर प्रकृति का बन्धन लिया। अंत में सहस्रार स्वर्ग में सहस्रार इन्द्र हो गए।
गर्भ और जन्म
इसी भरत क्षेत्र के कांपिल्य नगर में भगवान ऋषभदेव का वंश कृतवर्मा नाम का राजा राज्य करता था। जयश्याम उनकी प्रसिद्ध महादेवी थी। उन्होंने ज्येष्ठ कृष्ण दशमी के दिन उनका नाम ‘विमलनाथ’ रखा।
तप
एक दिन भगवान ने हेमंत ऋतु में बर्पा के शोभा को तत्क्षण में विलीन होते हुए देखा, जिससे उनका पूर्व जन्म का स्मरण हो गया। तत्क्षण ही भगवान विरक्त हो गए। तदन्तर देवों द्वारा लाए गए ‘देवदत्ता’ पालकी पर विद्यमान सहेतुक वन में गए और स्वयं दीक्षित हो गए, उस दिन माघ शुक्ला चतुर्थी थी।
केवलज्ञान और मोक्ष
जब तपश्चर्या करते हुए तीन वर्ष हुए, तब भगवान दीक्षावन में जाम्ब वृक्षारोपण के नीचे ध्यानारूढ़ु घातिया कर्मों के निवारक माघ शुक्ल षष्ठी के दिन ही गए। अंत में सम्मेदशिखर पर जाकर एक माह का योग निरोध कर आठ हजार छह सौ मुनियों के साथ आषाढ़ कृष्ण अष्टमी के दिन सिद्धपद को प्राप्त किया गया।
अपने पिछले अवतार में भगवान विमलनाथ की आत्मा राजा पद्मसेन थी। राजा पद्मसेन ने दाताकीखंड में महापुरी शहर पर शासन किया। वे हमेशा आध्यात्मिक साधना में लगे रहते थे। बाद में उन्होंने आचार्य यार्सवर्गगुप्त से दीक्षा ली। अपनी गहन ध्यान साधना के परिणामस्वरूप उन्होंने अपनी आत्मा को इस हद तक शुद्ध किया कि उन्होंने तीर्थंकर-नाम-और-गोत्र-कर्म प्राप्त कर लिया। इस वजह से उन्होंने देवताओं के महारदिक आयाम में पुनर्जन्म लिया।
कम्पिलपुर के राजा कृतवर्मन और रानी श्यामा देवी दोनों अध्यात्मवादी और जिन के भक्त थे। रानी ने एक दिन चौदह (दिगंबर जैन संप्रदाय के अनुसार सोलह) शुभ सपने देखे और शुभचिंतकों ने घोषणा की कि वह एक तीर्थंकर को जन्म देगी। वह प्राणी जो पद्मसेन था वह देवताओं के महारद्धिक आयाम से रानी के गर्भ में अवतरित हुआ। हिन्दू पंचांग के माघ शुक्ल मास की तृतीया को रानी श्यामा देवी ने पुत्र को जन्म दिया।
अपनी गर्भावस्था के दौरान रानी ने सुखदायक चमक बिखेरी। उसका स्वभाव भी अनुकूल, दयालु और उदार हो गया। जब बच्चे का जन्म हुआ तो पूरा वातावरण भी एक सुखद आभा से भर गया। पवित्रता के इस प्रसार से प्रेरित होकर, राजा ने अपने नवजात पुत्र का नाम विमल (शुद्ध / निष्कलंक) रखा।
कालांतर में राजकुमार विमल कुमार युवा हो गए। वह अनुशासन का लड़का था, उच्च विचार, महान स्वभाव, अपनी उम्र से कहीं अधिक परिपक्व। अपने माता-पिता की इच्छा के अनुसार उन्होंने कई बार शादी की। एक दिन राजा कृतवर्मन ने भक्ति के मार्ग पर आगे बढ़ने के बारे में सोचा तो उन्होंने विमल कुमार को राजा के रूप में राज्याभिषेक किया और तपस्या करने के लिए जंगलों में चले गए। राजा विमलनाथ एक योग्य राजा थे और सभी के बीच बहुत लोकप्रिय थे।
धीरे-धीरे राजा विमलनाथ को राज्य में कोई दिलचस्पी नहीं रही और सभी काम अन्य व्यक्तियों द्वारा देख लिए गए। एक दिन, जबकि वह अपने विचारों में गहरे थे, उन्होंने खुद को धतीखंड में महापुरी शहर के राजा पद्मसेन के रूप में देखा, जो हमेशा साधना में लगे रहते थे। इससे उन्हें अपने जन्म के असली उद्देश्य का एहसास हुआ। उस समय से लेकर पूरे वर्ष तक वह लोगों में धन बांटता रहा। एक दिन, हजार अन्य राजाओं के साथ, वह महल से बाहर आया, अपनी मुट्ठी से अपने बालों को हटा दिया, “नमो सिद्धनाम” कहा और एक तपस्वी बन गया।
सर्वज्ञता और निर्वाण
दो साल की आध्यात्मिक साधना के बाद उन्होंने सर्वज्ञता प्राप्त की और धार्मिक किले की स्थापना की। मेराक प्रतिवासुदेव, स्वयंभू वासुदेव और भद्र बलदेव उनके समकालीन थे।
भगवान विमलनाथ को आषाढ़ मास की कृष्ण पक्ष की सप्तमी तिथि को सम्मेद शिखरजी में निर्वाण प्राप्त हुआ।
गरभ जेठ बदी दशमी भनो, परम पावन सो दिन शोभनो |
करत सेव सची जननीतणी, हम जजें पदपद्म शिरौमणी ||
ॐ ह्रीं ज्येष्ठकृष्णादशम्यां गर्भमंगलप्राप्ताय श्रीविमलनाथ जिनेन्द्राय अर्घ्यं0
विद्यावाचस्पति डॉक्टर अरविन्द प्रेमचंद जैन संरक्षक शाकाहार परिषद् A2 /104 पेसिफिक ब्लू ,नियर डी मार्ट, होशंगाबाद रोड, भोपाल 462026 मोबाइल ९४२५००६७५३

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here