(अनुभवों की खान ) विश्व बुजुर्ग दुर्व्यवहार जागरूकता दिवस—विद्यावाचस्पति डॉक्टर अरविन्द प्रेमचंद जैन भोपाल

0
149

हर साल 15 जून को विश्व स्तर पर मनाया जाता है। यह दिन बुजुर्ग लोगों के साथ दुर्व्यवहार और पीड़ा के विरोध में आवाज उठाने के लिए मनाया जाता है। इस दिन का मुख्य उद्देश्य दुनिया भर के समुदायों को बुजुर्गों के दुर्व्यवहार और उपेक्षा को प्रभावित करने वाली सांस्कृतिक, सामाजिक, आर्थिक और जनसांख्यिकीय प्रक्रियाओं के बारे में जागरूकता पैदा करके दुर्व्यवहार और उपेक्षा की बेहतर समझ को बढ़ावा देने का अवसर प्रदान करना है।
इतिहास
इंटरनेशनल नेटवर्क फॉर द प्रिवेंशन ऑफ एल्डर एब्यूज  के अनुरोध के बाद संयुक्त राष्ट्र के संकल्प 66/127 को दरकिनार करते हुए दिसंबर 2011 में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा आधिकारिक तौर पर इस दिन को मान्यता दी गई थी।
बुजुर्ग दुर्व्यवहार को “एकल, या बार-बार कार्य, या किसी भी रिश्ते में होने वाली उचित कार्रवाई की कमी के रूप में परिभाषित किया जा सकता है, जहां विश्वास की अपेक्षा होती है जो किसी वृद्ध व्यक्ति को नुकसान या परेशानी का कारण बनती है”। यह एक वैश्विक सामाजिक मुद्दा है जो दुनिया भर में लाखों वृद्ध व्यक्तियों के स्वास्थ्य और मानवाधिकारों को प्रभावित करता है, और एक ऐसा मुद्दा जो अंतरराष्ट्रीय समुदाय के ध्यान देने योग्य है।
दुनिया के कई हिस्सों में वयोवृद्धों के साथ दुर्व्यवहार बहुत कम मान्यता या प्रतिक्रिया के साथ होता है। कुछ समय पहले तक, यह गंभीर सामाजिक समस्या सार्वजनिक दृष्टि से छिपी हुई थी और इसे ज्यादातर निजी मामला माना जाता था। आज भी, बुजुर्गों के साथ दुर्व्यवहार एक टैबू बना हुआ है, जिसे दुनिया भर के समाजों द्वारा ज्यादातर कम करके आंका जाता है और अनदेखा किया जाता है। साक्ष्य जमा हो रहे हैं, हालांकि, यह इंगित करने के लिए कि बुजुर्ग दुर्व्यवहार एक महत्वपूर्ण सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक समस्या है।
बुजुर्ग दुर्व्यवहार एक ऐसी समस्या है जो विकासशील और विकसित दोनों देशों में मौजूद है, फिर भी विश्व स्तर पर आमतौर पर इसे कम करके आंका जाता है। प्रसार दर या अनुमान केवल चयनित विकसित देशों में ही मौजूद हैं – 1% से 10% तक। हालांकि बुजुर्ग दुर्व्यवहार की सीमा अज्ञात है, इसका सामाजिक और नैतिक महत्व स्पष्ट है। इस प्रकार, यह वैश्विक बहुमुखी प्रतिक्रिया की मांग करता है, जो वृद्ध व्यक्तियों के अधिकारों की रक्षा पर केंद्रित है।
स्वास्थ्य और सामाजिक दृष्टिकोण से, जब तक प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल और सामाजिक सेवा क्षेत्र दोनों ही समस्या की पहचान करने और उससे निपटने के लिए अच्छी तरह से सुसज्जित नहीं हैं, तब तक बुजुर्गों के साथ होने वाले दुर्व्यवहार का निदान और अनदेखी जारी रहेगी।
बुजुर्गों के साथ हो रहे दुर्व्यवहार को 6 कैटिगरीज में बांटा जा सकता है-
सरंचनात्मक और सामाजिक दुर्व्यवहार
अनदेखी और परित्यक्तता
असम्मान और वृद्धों के प्रति अनुचित व्यवहार करना
मनोवैज्ञानिक, भावनात्मक और गाली-गलौज करना
शारीरिक रूप से मारपीट करना
आर्थिक रूप से दुर्व्यवहार करना
कानून
भारत की जनसंख्या भी तेजी से बुढ़ापे की तरफ बढ़ रही है और पूरी आबादी का 20 प्रतिशत हिस्सा 60 साल से अधिक उम्र के लोगों का होगा। ऐसे में अगर भारत के युवा अपने बुजुर्गों का सम्मान करना शुरू नहीं करते या फिर इसके लिए कोई सख्त कानून नहीं बनाया जाता तो बुजुर्गों के साथ हो रहे दुर्व्यवहार के मामले बढ़ते रहेंगे। मेंटेनेंस  एंड  वेलफेयर  ऑफ़  पेरेंट्स एंड  सिटीजन्स  एक्ट – साल 2007 में एक कानून बना था जिसमें माता-पिता की देखभाल के साथ ही यह भी प्रावधान था कि इस कानून के तहत माता-पिता अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते हैं और कोर्ट चाहे तो बच्चों को माता-पिता की देखभाल करने का आदेश भी दे सकती है साथ ही हर महीने 10 हजार रुपये गुजारा भत्ता भी देने को कह सकती है।
आज अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस है। इस दिन को बुजुर्गों के महत्व को दर्शाने के लिए मनाया जाता है। आज के समय में कई बच्चे अपने वृद्ध माता-पिता के महत्व को न समझते हुए उन्हें बोझ मान लेते हैं और ओल्ड ऐज होम में छोड़ आते हैं। हम लाए हैं इनसे जुड़ी कुछ ऐसी बातें जो आपको भावुक कर देंगी।
घर में बड़े बुजुर्ग ही नहीं होंगे तो भला आशीर्वाद कौन देगा?
बुजुर्गों की यादों और उनसे जुड़ी चीजों को हमेशा संभालकर रखें।
बुजुर्ग हमेशा घर के बच्चों के मंगल की दुआ मांगते रहते हैं। वे भले ही दुनिया में न रहे लेकिन उनका आशीर्वाद हमेशा बना रहता है।
घर के बड़े-बुजुर्ग हमेशा परिवार को एक करके चलते हैं। चाहे बच्चा किसी भी पीढ़ी का हो वह हमेशा उसके सुख-दुख का ख्याल रखते हैं।
उम्र के साथ बुजुर्गों ने जो अनुभव लिए हैं, उन्हें दुनिया की कोई किताब नहीं सिखा सकती। हमेशा उनसे ज्यादा से ज्यादा सीखने की कोशिश करते रहें।
3 से 6 महीने जेल की सजा का भी है प्रावधान
इतना ही नहीं, अगर कोई अपने माता-पिता के साथ दुर्व्यवहार करता है या उन्हें अकेले अपना गुजारा करने के लिए छोड़ देता है इसके लिए आरोपी व्यक्ति को 3 से 6 महीने की जेल की सजा भी हो चुकी है। हालांकि अब तक इस कानून के बारे में कम ही लोगों को जानकारी है। साथ ही दुर्व्यवहार की शिकायत भी बहुत कम ही लोग करते हैं और इसके पीछे की वजह होती है समाज में नाम खराब होने का डर, अपने परिवारवालों पर बुजुर्गों की पूरी तरह के निर्भरता, आर्थिक और शारीरिक रूप से कमजोर होना और बुजुर्गों के पास ऑल्टरनेटिव ऑप्शन मौजूद न होना।
हेल्पएज इंडिया की स्टडी में सिर्फ 18 प्रतिशत बुजुर्ग ऐसे थे जिन्होंने अपने साथ हो रहे दुर्व्यवहार की शिकायत करने की बात स्वीकार की।
“मैं सरकारों और सभी संबंधित अभिनेताओं से बुजुर्गों के दुरुपयोग के सभी पहलुओं को संबोधित करने के लिए अधिक प्रभावी रोकथाम रणनीतियों और मजबूत कानूनों और नीतियों को डिजाइन करने और लागू करने का आह्वान करता हूं। आइए हम मिलकर काम करें 0 वृद्ध व्यक्तियों के लिए रहने की स्थिति का अनुकूलन करें और उन्हें हमारी दुनिया में सबसे बड़ा संभव योगदान देने में सक्षम बनाएं।
संयुक्त राष्ट्रमहासचिव बान की मून

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here