विश्व हाथी दिवस — विद्यावाचस्पति डॉक्टर अरविन्द प्रेमचंद जैन भोपाल

0
118

हाथी दुनिया का विशालतम, एवं दुर्लभ प्राणी है, लेकिन लाखों वर्ष पुराना यह जीव अवैध शिकार, तस्करी और निवास की दुर्व्यवस्था के कारण इसकी संख्या में तेजी से गिरावट आ रही है, राजसी आन-बान-शान का प्रतीक समझे जाने वाले हाथी की सुरक्षा एवं संरक्षण को ध्यान में रखकर 12 अगस्त को विश्व हाथी दिवस मनाने की घोषणा की गई थी.
महत्व
विश्व हाथी दिवस जंगली हाथियों की सुरक्षा और संरक्षण के बारे में जागरूकता बढ़ाने का बहुत महत्वपूर्ण दिवस है. यह दिवस हाथियों के अवैध शिकार एवं इसके कीमती दांतों की तस्करी के कारण हाथियों पर बढ़ते खतरों के बारे में शिक्षित करने में मदद करता है. विश्व हाथी दिवस महज हाथी के प्रति जागरूकता बढ़ाना नहीं, बल्कि उनकी सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत बनाने की ओर भी ध्यान आकर्षित करता है. हाथी राजसी और विस्मयकारी प्राणी है.
साल 2011 में सिम्म एवं एलिफेंट की इंट्रोडक्शन फाउंडेशन द्वारा इसकी पहल की गई थी, किंतु ऑफिशियली 12 अगस्त 2012 विश्व हाथी दिवस मनाने की घोषणा की गई. विश्व हाथी दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य दुनिया भर से हाथियों की लुप्त हो रही संख्या की ओर दुनिया भर का ध्यान आकर्षित करना, उनकी सुरक्षा हेतु जागरूकता फैलाना और संरक्षण को बढ़ावा देना है. इसका मकसद हाथियों के पुनर्वास, बेहतर स्वास्थ्य, गैरकानूनी ढंग से हाथियों की तस्करी को रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाना है.
हाथी संरक्षण के लिए दान करें- विश्व हाथी दिवस हाथियों के अवैध शिकार से बचाने में अहम भूमिका निभाता है. उनकी प्रजातियों के अनुसंधान एवं संरक्षण के इससे जुड़े विश्वसनीय संगठन को कुछ फंड दान करें.
हाथियों के बारे में स्वयं को शिक्षित करें- हाथियों और उनके आवास के बारे में जानकारी के लिए पुस्तक पढ़ें, डॉक्युमेंट्री देखें और ऑनलाइन सर्च करें. जानने की कोशिश करें कि हाथी की सुरक्षा के लिए क्या-क्या किया जा सकता है.
हाथी अभयारण्य का भ्रमण करें- हाथियों के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानकारी हासिल करने के लिए निकटतम अभ्यारण्य अथवा नेशनल पार्क जाएं. वहां हाथी के प्रति अपना समर्थन, प्रशंसा और स्नेह का प्रदर्शन करें.
धन संचय या कार्यक्रम का आयोजन करें- हाथी संरक्षण के लिए जागरूकता एवं धन संग्रह का कार्यक्रम आयोजित करें. इस अवसर पर एक मूवी नाइट, या म्युजिकल नाइट का आयोजन कर टिकट बेचें. चाहें तो एक हाथी गोद ले लें. यहां गोद लेने का आशय किसी अभ्यारण्य में पल रहे हाथी की परवरिश की जिम्मेदारी ले लें.
रोचक तथ्य
* जन्म के 20 मिनट बाद ही हाथी का बच्चा अपने पैरों पर खड़ा हो जाता है.
* दक्षिण अफ्रीका में हाथियों का अधिकतम वजन 5 हजार किलो तक बताया जाता है.
* एक स्वस्थ हाथी दिन भर में 150 किलो खाना खाता है और करीब 80 गैलन पानी पीता है
* हाथी विश्व के लिए बहुत आवश्यक प्राणी माना जाता है, क्योंकि यह जंगल में रहने वाले अन्य वन्य जीवों के पारिस्थितिकी तंत्र को बनाए रखने में खास भूमिका निभाते हैं.
* वर्तमान में भारत के 14 प्रदेशों में लगभग 65 हजार वर्ग किमी में हाथियों के लिए कुल 30 वन क्षेत्र सुरक्षित एवं सरकार द्वारा संरक्षित है.
* हाथी हमेशा झुंड में चलते हैं, जिससे घने जंगलों में रास्ता खुद-ब-खुद बनता जाता है, जिसका लाभ जंगल के अन्य प्राणियों को मिलता है,
* एशियाई हाथियों की कुल वैश्विक आबादी का 60 प्रतिशत से अधिक भारत में हैं.
* सनातन धर्म में हाथी को भगवान गणेश का प्रतीक माना जाता है.
जैन धर्म में हाथी- यह भगवान अजितनाथ का चिन्ह है | हाथी शाकाहारी पशु है तथा बुद्धिमान प्राणी माना जाता है | युद्ध के मैदान में आगे रहकर शत्रुओं का सामना करता है इसलिए जीवन-संग्राम में आगे रहकर कठिनाइयों से मुकाबला करके विजयश्री प्राप्त करने की प्रेरणा देता है | हाथी की लम्बी सूंड अपनी ग्रहणशक्ति को विकसित करने की शिक्षा देती है | बडे-बडे कान सभी की बातें सुनकर अपने पेट में रखने की शिक्षा देते हैं | अपनी विषयांबधता के कारण ही इतना बलिष्ठ होने के बावजूद भी हथिनी के मोह -पाश में जकडा जाता है | मनुष्य भी नारी के मोह पाश में फ़ंसकर परवश-पराधीन हो जाता है जिस कारण उसे उचित-अनुचित का विवेक नहीं रहता | अत: हाथी के चरित्र से विषय -विरक्ति की शिक्षा लेनी चाहिये |
विद्यावाचस्पति डॉक्टर अरविन्द प्रेमचंद जैन संरक्षक शाकाहार परिषद् A2 /104 पेसिफिक ब्लू ,नियर डी मार्ट, होशंगाबाद रोड, भोपाल 462026 मोबाइल ०९४२५००६७५३

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here