आगमज्ञाता पुच्छिस्सु णं साधिका डॉ. साध्वी श्री सौरभसुधाजी म सा की गुरु गुणगान वाणी

0
89

भांडुप मुलुंड उपसंघ में परम पूज्य गुरुदेव अभिग्रह धारी रोड जी स्वामी और श्रमण संघ के निर्माणकर्ता मालव केसरी गुरुदेव श्री सौभाग्य मलजी महाराज साहेब का पुण्य स्मरण दिवस मनाया गया।

पूज्य महासती जी ने आज धर्मसभा में परम पूज्य गुरुदेव रोडजी स्वामी और मालव केसरी सौभाग्यमलजी म.सा. का जीवन वृतांत फरमाया की कैसे कठोर अभिग्रह धारी थे रोड जी स्वामी और उन्होंने मेवाड़ की परंपरा के लिए अपना जो योगदान दिया ! उसको स्मरण किया उनके चरणों में भावांजलि समर्पित की साथ ही मालव केसरी पूज्य गुरुदेव सौभाग्य मलजी महाराज साहब के पुण्य स्मरण पर महासती जी ने गुरुदेव के जीवन को हर पहलू से समझाते हुए बताया कि जीवन में मालव केसरी श्री सौभाग्यमल जी म. सा . ने पहला तप आंयबिल का किया और जब गोचरी के लिए गए तो श्रावक में अचानक लड्डू वहरा दिया अब उन्हें लड्डू से आंयबिल करना पड़ा बूंदी के लड्डू की मिठास उनके रोम रोम में ऐसी बसी थी की जब भी गुरुदेव बोलते थे, उनकी वाणी में अमृत बसता था , उस अमृतवाणी के बल पर गुरुदेव ने श्रमण संघ के निर्माण का अभूतपूर्व कार्य किया जो मालव केसरी श्री सौभाग्यमल जी म. सा. ने किया वह हमारे लिए गौरव की बात है। पूरे रमणीक परिवार की ओर से दोनों गुरुदेव के चरणों में वंदन नमन!!!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here