आचार्य श्री का चातुर्मास अंतरिक्ष पार्श्वनाथ में लगभग सुनिश्चित

0
158

जैन गजट। दिगम्बर सरोवर के राजहंस परम पूज्य संत शिरोमणी आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज ने कर्नाटक प्रान्त के सदलगा गांव में जन्म लेकर महज 22 वर्ष की युवा अवस्था में 30 जून सन् 1968 में आचार्य ज्ञानसागर जी महाराज से मुनि दीक्षा लेकर विगत् 55 वर्षो से निर्दोष दिगम्बर मुद्रा को जयवन्त रखा है। सम्पूर्ण भारत में 30 जून को आचार्यश्री जी का 55वां दीक्षा दिवस मनाया गया। हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी आचार्यश्री का दीक्षा दिवस विहारकाल में ही मनाया गया। दिनांक 1 जुलाई, 2022 तक प्राप्त सूचनानुसार आचार्य श्री अंतरिक्ष पार्श्वनाथ से अब कुछ ही दूरी पर हैं। आचार्यश्री के 55वां दीक्षा दिवस पर महासभा एवं जैन गजट परिवार की ओर से शत् शत् वंदन, शत् शत् नमन्।

मुजफ्फरनगर में मुनिश्री मंगलानन्द सागर जी महाराज

श्री 1008 नेमिनाथ दिगम्बर जैन पंचायती मन्दिर, सुरेन्द्र नगर, जानसठ रोड, मुजफ्फरनगर में आचार्यश्री 108 विद्यासागर जी महाराज के परम शिष्य मुनिश्री 108 सरल सागर जी महाराज के शिष्य मुनिश्री 108 मंगलानन्द सागर जी महाराज का भव्य मंगल प्रवेश सोमवार 4 जुलाई, 2022 को होगा। भव्य चातुर्मास स्थापना 12 जुलाई, 2022 को प्रात: 8 बजे होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here