रक्षाबंधन पर्व पर जैन धर्म के 11वें तीर्थंकर भगवान श्रेयांश नाथ का मनाया मोक्ष कल्याण

0
113

फागी कस्बे में जैन धर्म के धर्मावलंबियों द्वारा रक्षाबंधन पर्व को साधु संतों की रक्षा के लिए संकल्प दिवस के रूप में मनाया गया, साथ ही जैन धर्म के ग्यारहवें तीर्थंकर भगवान श्रेयांसनाथ का मोक्ष कल्याणक दिवस हर्षोउल्लास से मनाया गया। कार्यक्रम में जैन महासभा के प्रतिनिधि राजाबाबू गोधा ने अवगत कराया की फागी कस्बे में आर्यिका श्रुतमति माताजी, आर्यिका सुबोध मति माताजी,वर्षा कालीन वाचना में धर्म की भव्य प्रभावना बढ़ा रही है,इसी कड़ी में आज प्रातः श्री जी का अभिषेक ,शांति धारा, अष्टद्वव्यों से पूजा की गई, कार्यक्रम में रक्षा बंधन के पावन पर्व पर प्रकाश डालते हुए आर्यिका श्री सुबोध मति माताजी ने मंगलमय उद्बोधन में श्रद्धालुओं को बताया कि श्रावण शुक्ला पूर्णिमा के दिन राजा बलि द्वारा हस्तिनापुर में700 साधु -संतों पर अत्याचार किए गए थे इस अत्याचार एवं उपसर्ग को महामुनी विष्णु कुमार ने ब्राह्मण का रूप धरकर दूर किया था उन्होंने साधु संतों को आहार करवा कर स्वयं ने आहार किया था इसलिए इस दिन को जैन धर्मावलंबी रक्षाबंधन के पर्व को प्रतिवर्ष साधु संतों की रक्षा के संकल्प दिवस के रूप में मनाते हैं। आर्यिका श्री ने अवगत कराया कि इसी कड़ी में महामुनि विष्णु कुमार की अष्टद्वव्यों से पूजा अर्चना की गई। समाज के अध्यक्ष महावीर झंडा एवं महामंत्री कमलेश चौधरी ने अवगत कराया की इसी कड़ी में श्रावकों द्वारा आर्यिका श्री श्रुतमति माताजी,सुबोध मति माताजी की पिच्छिका के रक्षा सूत्र बांधा जाकर साधु संतों एवं जिनवाणी तथा जैन धर्म की रक्षा का संकल्प लिया गया। कार्यक्रम जैन धर्म के श11 वें तीर्थकर भगवान श्रेयांश नाथ का जयकारों के साथ सामूहिक रूप से मोक्ष कल्याण का लाडू चढ़ाया गया। उक्त टाइम समाजसेवी कैलाश कलवाड़ा,सोहनलाल झंडा, अग्रवाल समाज के अध्यक्ष महावीर झंडा, फागी पंचायत समिति के पूर्व प्रधान सुकुमार झंडा, चातुर्मास समिति के अध्यक्ष अनिल जैन कठमाना, महामंत्री विनोद कलवाड़ा, महेंद्र बावड़ी,सुरेंद्र बावड़ी, मुकेश कठमाणा,मितेश लदाना, पारस मोदी,कमलेश चौधरी, मुकेश जैन गिंदोडी, बंटी पहाड़िया, त्रिलोक जैन तथा राजाबाबू गोधा सहित सभी श्रावक श्राविकाएं मोजूद थे।

राजाबाबु गोधा जैन महासभा मीडिया प्रवक्ता राजस्थान

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here