धर्म परायण श्रीमती सुशीला उर्फ ग्लोल बाई जैन बूंदीअब नहीं रही

0
36

जैन गजट संवाददाता महावीर सरावगी
, 17 दिसंबर रविवार
स्वर्गीय श्रीमती सुशीला उर्फ ग्लोल बाई धर्मपत्नी घनश्याम चादवाड बूंदी के 15 दिसंबर को निधन के समाचारों से संपूर्ण बूंदी जिले में शोख की लड़र दौड़ गई
आप 84 वर्ष के थे आप धार्मिक क्रियो में नित्य नियम पूजन देव शास्त्र स्वाध्याय अभिषेक शांति धारा नित्य देखकर भोजन ग्रहण करती थी
आप समस्त प्रकार के जमी कंदो एवं रात्रि भोजन के त्यागी थे आपका सादा जीवन उच्च विचार अड़ोस पड़ोस में मिलन सरिता से सभी के दिलों में आपने जगह बनाई
साधु संतों को आहार देना उनके शत उपदेश सुनना आपकी अनोखी , पहचान थी
आपका पियर पक्ष नैनवा जिला बूंदी में मिश्रीलाल जी वेद ब्रजाबाई माता के घर आपका जन्म हुआ था आपके चार भाई और चार बहने थी जिनमें सबसे छोटी लाडली बहन आप थी

आपके भाई संयम पदधारण कर जैन मुनि भव्य सागर के नाम से संपूर्ण भारतवर्ष में आपने चातुर्मास किया और अपनी अनोखी पहचान बनाई

आपके ही भतीजे महावीर सरावगी की जैन गजट संवाददाता नैनवा आपका पुन्य का अभी हाल ही का वर्णन बताया आप 13 दिसंबर को अपने पौत्र की शादी में बूंदी से दिल्ली गए थे वहां से शादी कर नई बहू को वापस बूंदी अपने घर पर लाकर मंगल प्रवेश कराया
15 दिसंबर को प्रातः 4:00 बजे शुभ बेला शुभ नक्षत्र में अपने नश्वर शरीर को त्याग कर सदा सदा के लिए विदाई ली यही सबसे बड़ा आपका पुन्य का उदाहरण देखने को मिला

तीऐ की बैठक खंडेलवाल सरावगी समाज चौकान गेट नशियां में हाडोती संभाग से श्रद्धांजलि अर्पित करने अनेको लोग पहुंचे
जिला बूंदी के सरावगी समाज के अध्यक्ष रविंद्र कुमार जैन काला एडवोकेट ने काफी संख्या में शोक संदेश एवं उनका पूरा जीवन परिचय पढ़कर संवेदना व्यक्ति की
आप अपने पीछे पाच पुत्र एक पुत्री पांच पौत्र और पांच पोत्ररिया पीछे छोड़कर गए
अशोक कुमार विमल राजेंद्र सुनील अनिल जैन पुत्री रजनी जैन

परिवार जनों ने अनुदान राशि स्वरूप ₹1100 जैन गजट को सहयोग प्रदान किया है

महावीर कुमार जैन सरावगी जैन गजट संवाददाता नैनवा जिला बूंदी राजस्थान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here