दसलक्षण धर्म- उत्तम ष्आकिंचन धर्म बनाया गया

0
117

अनन्त चर्तुदर्षी व  भगवान वासुपूज्य स्वामी का मोक्ष कल्याणक महोत्सव मनाया जायेगा  ।
अजमेर 27 सितम्बर, 2023 अखिल भारतवर्षीय श्री दिगम्बर जैन महासभा, अजमेर संभाग, अजमेर के संयोजक संजय कुमार जैन एवं संभाग प्रवक्ता कमल गंगवाल ने बताया कि पर्यूषण पर्व के आज 9वें दिन उत्तम ष्आकिंचन धर्म के अवसर पर पूरे अजमेर संभाग व जिले के सभी नसियांजी, मन्दिरजी, कालोनियों के मन्दिरजी में आज उत्तम आकिचंन धर्म पर प्रवचन हुये और कहा कि -जो मनुष्य जीवन के सभी प्रकार के परिग्रहों का त्याग करता है, उसे मोक्ष सुख की प्राप्ति अवष्य होती है। आत्मा के अपने गुणो के सिवाय जगत में अपनी कोई भी वस्तु नहीं है। इस दृष्टि से आत्मा आकिंचन है । जीव संसार में मोहवष जगत के सब जड चेतन पदार्थो को अपनाता है किसी के पिता, माता, भाई, बहिन, पुत्र, पति, पत्नी, मित्र आदि के विविध संबंध जोडकर ममता करता है ।

28 सितम्बर को अनन्त चर्तुदर्षी पर्व एंव भगवान वासुपूज्य स्वामी का मोक्ष कल्याण बनाया जायेगा
संभाग संयोजक संजय कुमार जैन व संभाग प्रवक्ता कमल गंगवाल ने बताया कि कल दिनांक 28 सितम्बर, 2023 को पूरे भारतवर्ष में दिगम्बर जैन समाज का सबसे बडा पर्व अनन्त चर्तुदर्षी मनाया जायेगा तथा साथ में भगवान वासुपूज्य स्वामी का मोक्ष कल्याणक दिवस पर मोदक समर्पित किया जायेगा । अनन्त चर्तुदर्षी के दिन सभी धर्म प्रेमी महिलायें , पुरूष, बच्चे आदि जो पूरे साल भर उपवास, व्रत आदि नहीं रखते है वो भी आज के दिन पूरे दिन उपवास, व्रत आदि रखते है तथा सभी जिनालयों, मन्दिरजी में जिनाभिषेक, शान्तिधारा, पूजन आदि करते है तथा दोपहर 4 बजे नसियांजी में जिनेन्द्र भगवान के कलषाभिषेक संगीतमय भजनों के साथ होते है तथा सभी जैन व्यापारीगण अपने अपने प्रतिष्ठान बंद रखते है। तथा तीन, पांच, दस उपवास करने वालों की तालोडी भी अपने अपने घर से जिनालयों में बैण्ड बाजे जुलूस के रूप में जाते है ।

संजय कुमार जैन कमल गंगवाल -प्रवक्ता
संयोजक-9828173258  9829007484

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here